पंजाब में आत्महत्या करने वाले किसान के घर पहुंचे राहुल

फतेहगढ़ साहिब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज उस किसान के परिवार से मिलने पहुंचे, जिसने पिछले सप्ताह कर्ज के बोझ के कारण आत्महत्या कर ली थी। करीब एक महीने पहले ही इस किसान ने कांग्रेस उपाध्यक्ष से मिल कर उन्हें बेमौसम बारिश के कारण किसानों की समस्याओं के बारे में अवगत कराया था। 28 अप्रैल को सरहिंद में राहुल से मुलाकात करने वाले सुरजीत ने बड़ी रकम कर्ज के तौर पर ले रखी थी और फसल को भारी नुकसान होने पर 10 जून को उसने खुदकुशी कर ली। आज उनकी ‘भोग’ (मृत्यु के बाद का संस्कार) रस्म है। राहुल ने सुरजीत के परिवार और ग्रामीणों के साथ करीब 20 मिनट गुजारे। उन्होंने मीडिया से बातचीत नहीं की। कांग्रेस के स्थानीय विधायक कुलजीत सिंह नगड़ा राहुल के साथ थे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि उनके साथ पार्टी के कोई वरिष्ठ नेता नहीं थे। सुरजीत के परिवारवालों ने कहा कि राहुल ने उन्हें आश्वस्त किया कि वह केंद्र के समक्ष मामला उठाएंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्तारुढ़ अकाली दल और भाजपा में से किसी ने भी उनकी सुध नहीं ली। पंजाब में तीन अनाज मंडियों में गेंहू की खरीद की प्रक्रिया का जायजा लेने यहां आए राहुल ने सुरजीत से बात की थी।

किसानों की दिक्कतों के बारे में राहुल को अवगत कराते हुए सुरजीत ने कहा था, ‘‘अगर किसानों की समस्याएं नहीं दूर होती हैं तो कई किसान आत्महत्या कर सकते हैं।’’ सक्रिय राजनीति से 57 दिनों की अपनी छुट्टी से वापसी के तुरंत बाद राहुल ने पंजाब का दौरा किया था। राहुल 28 अप्रैल को ट्रेन से पंजाब गए थे और अनाज मंडियों का दौरा किया था। किसानों की फसल बेमौसम बरसात की वजह से खराब हो गई थी और उन्हें मंडियों में अनाज बेचने में दिक्कत हो रही थी। सुरजीत के बेटे कुलविंदर सिंह ने बताया कि उसके पिता की छह एकड़ जमीन थी लेकिन उन लोगों ने ठेके पर 19 एकड़ जमीन पर फसल बोई। बेमौसम बरसात के कारण फसल खराब हो गई और उसके पिता के पास जमीन मालिकों का कर्ज लौटाने के लिए कुछ नहीं बचा। सिंह ने कहा था, ‘‘मेरे पिता बहुत परेशान थे। उन्होंने सल्फॉस खा लिया।’’ सुरजीत पर करीब 13 लाख रूपये का कर्ज था।

 

Comments are closed.