दिल्ली में ‘बाइक साइको’ बाइक जलाने वाले लड़को का खौफ।

योगेंद्र कुमार

बाहरी दिल्ली के कंझावला इलाके के शिव विहार इलाके में रहने वाले लोग ऐसे साईको से परेशान है जो रात को आता है और उनकी बाइक को आग लगा जाता है  शिव विहार में महज 20 दिन में ऐसी करीब डेढ़ दर्जन से जयदा वारदातें हो चुकी  है। यहाँ की हर दूसरी तीसरी गली में बाइक को आग लगाने की घटनाएं हुयी है।पुलिस को भी समझ नहीं आ रहा है की आखिर माज़रा क्या है –?

आग से ख़ाक हुयी इन दोनो मोटरसाइकल को देख लगता है जैसे किसी ने कोई रंजिश निकाली हो लेकिन ऐसे नहीं है। दिल्ली के कराला इलाके के शिव विहार जे ब्लॉक में रहें वाले संजीव को नहीं पता की उनकी दोनों बाइक्स को कौन आग लगा गया उनका कहना है की वो देर रात अपने बच्चे का जन्मदिन मना कर सो गए थे तभी उनके जीजा जो सामने ही रहते है उन्होंने आकर उनका दरवाजा बजाया और कहा कोई उनकी बाइक में आग लगा कर चला गया है। कुछ ऐसा ही सवाल रवि के मन में भी है  इसकी डिस्कवर बाइक को भी पता नहीं कौन आग लहै कर भाग गया। उसकी मोटरसाइकल का केवल अवशेष ही बचा है शिव विहार में ऐसे नज़ारे हर थोड़ी थोड़ी दूरी पर सड़क पर गली में आजकल दिखाई और सुनाई दे रहे है। रात के अँधेरे में दो या तीन लोग आतें है घर के बहार खड़ी बाइक को या तो वहीँ आग लगा कर भाग जाते है या फिर उसे कुछ दूरी पर ले जाकर आग लगा देते है –यहाँ के लोगों को समझ नहीं आ रहा है की आखिर वे कौन लोग है और क्यों बाइकों के दुश्मन बने हुयी है। कुछ ऐसे केस भी देखने को मिले है जिसमे उनके घरो से बाइक उठा कुछ दूरी पर ले जाकर जला देते है। स्थानीय लोगों की मानें तो महज 20 दिन में इस तरह की 15 से 20 घटनाएं सामने आ चुकें है। स्थानीय लोग का कहना है की कोई साइको गैंग है जो रात के अंधेर में आतें है और किसी न किसी बाइक को आग लगाकर भाग जातें है। इन साइको गैंग की दहशत शिव विहार में जंगल में लगी आग की तरह फ़ैल रही है।कई मोटरसाइकल की तो पहचान भी नहीं हो सकी ये जली हुयी बाइक सड़क पर यूँ ही पड़ी है मानो इनका कोई मालिक ही न हो। लोगों ने कंझावला थाने में शिकायतें की है मगर पुलिस में इन घटनाओं में अभी कोइ कार्यवाही नहीं की गयी। थाने से भी सम्पर्क किया तो हैरान करने वाला मामला सामने आया पुलिस थाने में एक भी एफआईआर दर्ज़ नहीं है लेकिन लोगों के पास शिकायत की कॉपी है और जगह जगह जली हालत में खाख हुए मोटरसाइकल भी मौजूद है। जाहिर है कंझावला थाना पुलिस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही।

Comments are closed.