Friday, April 19, 2024
Homeदेशपूरी तरह से लॉकडाउन खुलने का बेसब्री से इंतजार

पूरी तरह से लॉकडाउन खुलने का बेसब्री से इंतजार

प्रियंका आनंद


कोरोना संक्रमण की दूसरी जबरदस्त लहर के कारण दिल्ली वाले भी लॉकडाउन के शिकार हो गऐ जिसके कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। न केवल घरों में, बल्कि हस्पतालों में भी लोगों को परेशान होते देखा गया है। दिल्ली सरकार के आदेश के मुताबिक कोरोना से सुरक्षा के लिए पिछले पौने दो महिने से दिल्ली में लॉकडाउन लगाया गया, जिसका दिल्ली वालों ने पूरी तरह से पालन किया। वक्त और हालात को देखते हुए सरकार लोगों की सुरक्षा के लिए कोई ना कोई इंतज़ामात भी करती नजर आई है।  दिल्ली को जल्द से जल्द कोरोना मुक्त बनाने के लिए, लोगों का जीवन फिर से पटरी पर लाने में सभी वर्ग के लोगों की भूमिका को सराहा जा रहा है।


 काफि मेहनत के बाद कोरोना का संक्रमित स्तर कम हुआ है। जहॉ कोरोना से बचाव के लिए दिल्ली में लॉकडाउन लगने से लोगों को अपने परिवार के साथ रहने का मौका मिला तो वही दुसरी ओर लोगों को बेरोज़गारी की भारी मार भी सहनी पड़ी। लॉकडाउन के कारण लोगों की कमाई का ज़रिया पुरी तरह से खत्म हो गया। कई दिनों की परेशानी के बाद अब जब दिल्ली को फिर से अनलॉक करने की खबर आई तो मानों जैसै लोगों के दिलों में एक उम्मीद जागी थी आखिर अब न केवल हालात ठिक होंगे, बल्कि लोगों के रोज़गार भी शुरु हो जाएंग और कमाई का ज़रिया भी शुरु हो पाएगा।

ये भी पढ़े – हां, मैं बाइपोलरिटी से डायग्नोस हूं लेकिन मैं पागल नहीं हूं- निशा रावल


सरकार के आदेश के अनुसार दिल्ली में कंस्ट्रक्शन तथा फैक्ट्रियों को खोलने के अनुमति मिलने से कुछ लोगों को राहत तो मिली, लेकिन एक सवाल लोगों के मन में अब भी है कि जब तक बाकि व्यवसाय नहीं चलेंगे तो फैक्ट्रि और कंस्ट्रक्शन्स को खोलने का क्या फायदा?  एक व्यक्ति ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि कोरोना का स्तर कम होता देख हमें यह उम्मीद थी कि अब हमारे काम फिर से शुरु होंगे और हमारे हालात भी ठिक होंगे, लेकिन जब से दिल्ली में दोबारा 7 जून तक का लॉकडाउन में रहने की खबर सुनी है तो परिवार को चलाने की चिंता पहले से और ज्यादा बढ़ गई है। आखिर हम घरों में कब तक बैठैं और कब तक दिल्ली के अनलॉक होने का इंतज़ार करें।

जहॉ लोगों के मन में फैक्ट्रियों के खुलने की खुशी है तो वही यह सवाल भी है कि जब दिल्ली में कोरोना के केस कम हो रहे हैं तो क्यू पुरी दिल्ली को अंलॉक नहीं किया जा रहा?, आखिर क्यू लोगों को बाकि काम करने की इज़ाज़त नहीं दी जा रही?  ऐसे सवालों के साथ लोंगो में सरकार के प्रति गुस्सा और नाराज़गी देखने को मिल रही है। कुछ लोगों का यह भी कहना है कि सरकार को चाहिए कि जो लोग फैक्ट्रियों में काम नही करतें उनके लिए भी कुछ ऐसे रास्ते निकाले जाएं ताकि वह भी अपने कामों में जा सके और उनके भी परिवार का गुज़ारा हो सके। 

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे ।

आप हमें Twitter , Facebook , और Instagram पर भी फॉलो कर सकते है।                      

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments