Friday, April 12, 2024
Homeअन्य‘आत्मनिर्भर’ बना वर्ड ऑफ द ईयर 2020

‘आत्मनिर्भर’ बना वर्ड ऑफ द ईयर 2020

नेहा राठौर

नई दिल्ली : दुनिया में विख्यात ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ने अपने हिंदी के शब्दों में एक नया शब्द जोड़ा है ‘आत्मनिर्भर’। इस शब्द को ऑक्सफोर्ड ने ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ घोषित किया है। इस शब्द को अपने कई बार सुना होगा और कई बार रोज़मर्रा में उपयोग भी किया होगा। पिछले साल इस शब्द का जिक्र 12 मई 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सार्वजनिक तौर पर उस वक्त किया था, जब देश कोरोना महामारी से लड़ रहा था और वे इससे उबरने के लिए एक आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रहे थे। तब से इस शब्द को प्रधानमंत्री से जोड़कर देखा जाता है।

प्रधानमंत्री के जिक्र के बाद ये शब्द काफी प्रचलित हुआ है। 78 साल पुरानी इस डिक्शनरी में हर साल कई नए शब्दों को जोड़ा जाता है।

ये भी पढे़ं  –दुनिया के 50 प्रदूषित शहरों में 7 भारत के , हवाओं में धुआं फिजाओं में जहर

उस समय पीएम मोदी ने अपने भाषण में देश को हर क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का जिक्र किया था। इससे पहले इस शब्द का जिक्र पीएम ने पहली बार 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का एलान करते हुए किया था, जो देश की जीडीपी का करीब दस प्रतिशत था। उन्होंने आत्मनिर्भर भारत के तहत सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों के उत्थान के लिए 16 घोषणाएं की थीं।

2020 में शामिल हुए थे 26 हिंदी शब्द

बता दें कि जनवरी 2020 में ऑक्सफोर्ड की डिक्शनरी के नए संस्करण में भी 26 भारतीय हिंदी शब्दों को जोड़ा गया था। इनमें शादी, हड़ताल, आधार, चावल और डब्बा जैसे शब्द शामिल थे। इन शब्दों के अलावा इसी श्रेणी में चैटबॉट और फेक न्यूज को भी ऑक्सफोर्ड ने अपनी डिक्शनरी में शामिल किया गया था। इन शब्दों में से 22 शब्दों को इसके प्रिंट एडिशन में जबकि बाकी चार को इसके डिजिटल एडिशन में शामिल किया गया था। इस बार जोड़ो गए शब्दों को मिलाकर इस डिक्शनरी के दसवें संस्करण में 384 शब्द ऐसे शामिल हो चुके थे, जिनका उपयोग भारत में आम बोलचाल के लिए किया जाता है, जैसे— बॉलीवुड।

ये भी पढे़ंचौरी चौरा काण्ड: 99वां स्मृति दिवस

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में भारतीय शब्द आत्मनिर्भरता के शामिल होने से भारतीय शब्दों का महत्व बढ़ना स्वाभाविक है। इस शब्द को शामिल करने का फैसला ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के एडवाइजरी पैनल में शामिल लैंग्वेज एक्सपर्ट कृतिका अग्रवाल, पूनम निगम सहाय और इमोगन फोक्सेल ने किया है। आपको बता दें कि ऑक्सफोर्ड द्वारा दुनिया भर में बोली जाने वाली कुछ खास भाषाओं में आए नए शब्दों के प्रचलन पर खास निगाह रखी जाती है। जो शब्द इसे खास लगते हैं उन्हीं शब्दों को ऑक्सफोर्ड अपने नए एडिशन में शामिल करती है। पूरी दुनिया के लोग ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी का इस्तेमाल नए शब्दों का अर्थ जानने के लिए करते हैं। इसे सबसे पहले 1942 में, जापान में प्रकाशित किया गया था। 

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे ।

आप हमें Twitter , Facebook , और Instagram पर भी फॉलो कर सकते है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments