प्रदूषण और कोरोना दोनों दिल्ली में जानलेवा !

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में नवंबर माह अधिक जानलेवा साबित हो रहा है। कोरोना के मामले बढ़ने के साथ पिछले तीन दिनों में लगातार सौ से अधिक मरीजों की मौत हुई हैं।
कहा जा रहा है कि अभी कुछ दिनों तक इससे राहत नहीं मिलने वाली है। इससे दिल्ली सरकार की चिंता भी बढ़ती जा रही है।

पराली का प्रदूषण और संक्रमण

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि पराली के धुएं व कोरोना के संक्रमण ने लोगों के स्वास्थ्य पर दोहरा अटैक किया। इस वजह से दिल्ली में कोरोना से मौत के मामले बढ़े हैं।
उन्होंने उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि दो सप्ताह में मौत के मामले कम हो जाएंगे।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अस्पतालों में अभी 7900 बेड खाली हैं। पहले के मुकाबले स्थिति सुधर रही है। सात नवंबर को 15.33 फीसद संक्रमण दर थी। 11 नवंबर को 8500 से अधिक मामले आए थे। इसके बाद संक्रमण दर धीरे-धीरे कम हो रही है।

एक दिन पहले संक्रमण दर 12 फीसद के आसपास थी। लगातार तीन दिन से कोरोना के कारण सौ से अधिक मरीजों की मौत के मामले पर उन्होंने कहा कि दिल्ली के आसपास के राज्यों में पराली जलने के कारण यहां प्रदूषण बढ़ा। इससे काफी परेशानी हुई।

कोरोना से संक्रमित लोगों के फेफड़े में सांस के जरिये धुआं जाने से बीमारी की गंभीरता बढ़ी। इस वजह से मौत के मामले बढ़े। इसका दुष्प्रभाव अभी दो-तीन सप्ताह तक रहेगा। उन्होंने कहा कि पराली का धुआं अब दिल्ली नहीं पहुंच रहा है। इसलिए दो सप्ताह में धीरे-धीरे मामले कम हो जाएंगे।

यह भी पढ़ेhttps://apnipatrika.com/delhi-government-is-kind-to-labour/

मास्क पहनना जरूरी

कोरोना की संक्रमण रोकना चुनौतीपूर्ण है। संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनना जरूरी है।
सबसे ज्यादा चुनौतीपूर्ण यह है कि सौ फीसद लोग मास्क पहनना सुनश्चित करें। कुछ दिन पहले तक ज्यादातर लोगों के गले में मास्क लटका होता था।
पिछले दो-तीन दिनों में व्यापक स्तर पर बदलाव देखा जा रहा है और करीब सौ फीसदी लोग मास्क पहनकर घर से बाहर निकल रहे हैं।

सुधर रही है दिल्ली

सत्येंद्र जैन ने कहा कि वह रविवार को रानी बाग मार्केट में मास्क बांटने गए थे। इस दौरान सिर्फ दो लोग ही ऐसे मिले जो मास्क नहीं पहने थे। सख्ती बढ़ाने के बाद मास्क नहीं पहने की लोगों की आदत में सुधार हुई है।

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे।

Comments are closed.