Wednesday, April 17, 2024
Homeप्रदेशयूपी में मनचलों पर कैमरे से निगरानी

यूपी में मनचलों पर कैमरे से निगरानी

नेहा राठौर

आए दिन महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और बलात्कार के मामले सामने आते हैं। अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश में हुई हाथरस, बलरामपुर और अन्य इलाकों में कथित बलात्कार की घटनाओं के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहल करते हुए इन अपराधों के खिलाफ मिशन शक्ति की घोषणा की है। इस मिशन के चलते उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब ऐसे मामलों पर कार्रवाई के लिए शहर की कुछ चुनिंदा जगहों पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस कैमरे लगवाने जा रही है,

इन कैमरों की मदद से छेड़छाड़ जैसी घटनाओं के दौरान उस जगह की तस्वीरें सीधे कंट्रोल रूम तक भेजी जा सकेंगी और पुलिस ज्लदी से वहां पहुंचकर अभियुक्तों पर कार्रवाई कर सकेगी। अगर कोई भी लड़का किसी लड़की का पीछा करता है तो महिलाओं के एक्सप्रेशन चेंजेस को कैमरा कैप्चर कर लेगा और फिर यह कैमरा यूपी पुलिस के डायल 112 के वाहन को सतर्क कर देगा, जिससे आस-पास मौजूद पुलिस टीम वहां पहुंचकर छेड़खानी करने वाले मनचलों को पकड़ लेगी।

कैमरों की खासियत

इस पर लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने बताया कि राजधानी लखनऊ में ऐसी कुल मिलाकर 200 जगहों की पहचान की गई है जहां यह घटनाएं ज्यादा होती है। इन चिन्हित के जगहों पर 5-5 केमरे लगाए जाएंगे। उनके अनुसार, सबसे पहले इन्हीं जगहों पर आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से युक्त कैमरे लगाए जाएंगे ताकि इन इलाकों पर हर समय नजर रखी जा सके। पुलिस आयुक्त ठाकुर ने कैमरों की खासियत के बारे में बताते हुए कहा की इसकी मदद से चेहरे के हाव-भाव से ही किसी महिला के साथ हो रही छेड़छाड़ का पता लगा लेंगे।  

छेड़छाड़ के चालीस तरीके

यूपी पुलिस ने छेड़छाड़ करने के ऐसे करीब चालीस से ज्यादा तरीकों का अंदाजा लगाया है और उन अंदाजों में से अगर कोई हाव-भाव उन से मिलता जुलता नजर दिखाई देता है तो यह कैमरे उसे तुरंत पकड़ लेंगे।

यह प्रस्तावित मॉडल लखनऊ पुलिस द्वारा दिया गया है। इस पर काम शुरू किया जा चुका है। इस पर लखनऊ पुलिस की एक वरिष्ठ अधिकारी नीलाब्जा चौधरी ने बताया कि इस काम को कैसे पूरा किया जाएगा। फिलहाल लखनऊ की पुलिस के पास करीब 280 कैमरे है जबकी इस योजना को सफल करने के लिए कम से कम 1000 कैमरों की जरूरत पड़ेगी। उन्होंने बताया कि जल्द ही लगभग 1500 कैमरों का इंतजाम कर लिया जाएगा।  

 विपक्ष का वार

यूपी में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए यूपी पुलिस ने पहले भी इस पर कई अभियान चलाए है लेकिन यह अभियान अपराधों को रोक पाने में नाकाम रहे। यूपी सरकार पर महिला सुरक्षा के लेकर अक्सर विपक्षी दल निशाना साधता रहता है। हाल ही में यूपी सरकार ने ऑपरेशन दुराजारी नामक अभियान भी चलाने की  बात की थी, जिसमें महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार या और कोई अपराध करने वालों के पोस्टर चौराहों पर लगाने की बात कही गई थी, इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ।

सरकार द्वारा चलाए गए कई अभियानों के बाद भी महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों में कोई कमी आती नहीं दिख रही है, इसीलिए लखनऊ पुलिस की इस नई पहल की सोशल मीडिया पर मजाक बनाया जा रहा है। इस पहल पर विपक्षी दल भी सवाल उठा रहे है। इस पर सवाल उठाते हुए समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा कि अब तक की योजनाओं में योगी जी की पुलिस ने कितने मनचलों को पकड़ा है पहले यह तो बता दें। उन्होंने कहा कि शिकायत करने पर तो कार्रवाई हो नहीं रही है और ये नया शिगूफा दे रहें है।  

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे ।

आप हमें Twitter , Facebook , और Instagram पर भी फॉलो कर सकते है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments