Monday, May 27, 2024
HomeराजनीतिBihar Politics : नीतीश कुमार के संपर्क में थे आनंद मोहन? बिहार...

Bihar Politics : नीतीश कुमार के संपर्क में थे आनंद मोहन? बिहार से दिल्ली और फिर पहुंचे देहरादून, 11 बजे पटना से पकड़ी फ्लाइट

पटना: बिहार के बाहुबली आनंद मोहन (Anand Mohan) की गुरुवार (27 अप्रैल) की सुबह 6.15 बजे जेल से रिहाई तो हो गई लेकिन किसी ने देखा नहीं. समर्थकों को इंतजार था कि आनंद मोहन जेल से बाहर आएंगे तो उनका स्वागत किया जाएगा. गाजे-बाजे की तैयारी थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका. गुरुवार की सुबह कुछ समर्थक सहरसा जेल के बाहर पहुंचे तब पता चला कि आनंद मोहन को जेल से छोड़ा जा चुका है. देर शाम तक आनंद मोहन का पता नहीं चला कि वह जेल से निकलने के बाद कहां गए. अब यह बात सामने आ रही है कि वह देहरादून पहुंच गए हैं.

जानिए कैसे आनंद मोहन ने दिया चकमा

सहरसा जेल से छूटने के बाद दिन भर खबरें चलती रहीं कि बिना बताए अचानक इस तरीके से रिहाई का क्या मतलब है. इसको लेकर राजनीति भी होती रही. कुछ नेताओं की ओर से सवाल उठाए गए कि चोरी-छुपे छोड़े जाने का क्या मतलब है? अब आइए जानिए कि आखिर आनंद मोहन ने कैसे चकमा दे दिया. किसी को पता भी नहीं चला और वो बिहार से बाहर चले गए.

 

सड़क मार्ग से आनंद मोहन पहुंचे पटना

सहरसा जेल से निकलने के बाद आनंद मोहन सड़क मार्ग से पटना पहुंचे. वह दरभंगा से मुजफ्फरपुर होते हुए सुबह में पटना पहुंच गए. यहां सुबह उनकी 11 बजे की फ्लाइट थी. फ्लाइट से वो पटना से दिल्ली रवाना हो गए. इसके बाद दिल्ली से आनंद मोहन देहरादून पहुंच गए. सूत्रों के अनुसार गुरुवार (27 अप्रैल) को सीएम नीतीश कुमार के संपर्क में आनंद मोहन थे. सूत्र यह भी दावा कर रहे हैं कि दिशा निर्देश था कि आनंद मोहन को मीडिया से बात नहीं करनी है. कहा गया था कि सीधे वह देहरादून के लिए निकल जाएं और बेटे की शादी की तैयारी करें.

जेडीयू के नेता ने किया था फोन

बता दें कि एबीपी न्यूज़ ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी थी कि कैसे आनंद मोहन ने जेल से बाहर निकलने के बाद जश्न की तैयारी की थी. तैयारी थी कि गाजे-बाजे के साथ आनंद मोहन का स्वागत होगा, लेकिन सूत्रों ने यह जानकारी दी कि पटना से जेडीयू के एक बड़े नेता ने फोन कर ऐसा करने से मना कर दिया. जब आनंद मोहन को मना किया गया कि वे कुछ न करें तो उन्होंने यह भी कहा कि हमने जो तय किया उसे करने में क्या दिक्कत है? इसे क्यों रोकें? इस पर उन्हें पटना से कहा गया कि अभी आप शांत बैठिए. अभी ये सब करने की कोई जरूरत नहीं है.

तीन मई को बेटे चेतन आनंद की शादी

आनंद मोहन के बेटे चेतन आनंद आरजेडी से विधायक हैं. 24 अप्रैल को पटना के विश्वनाथ फार्म में सगाई हुई थी. तीन मई को देहरादून में शादी होने वाली है. सगाई के दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह समेत कई बड़े नेता पहुंचे थे.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments