प्रशांत विहार में कारोबारी से बर्बरता, तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड

अपनी पत्रिका, विद्या नन्द मिश्रा।

रोहिणी जिला के डीसीपी ऋषिपाल ने प्रशांत  विहार थाना क्षेत्र में एक सहायक उपनिरीक्षक समेत तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया, वहीं एसएचओ एस.एस.राठी के खिलाफ विभागीय जांच का आदेश भी दिया है। यह कार्रवाई 17 मई 2017 को रोहिणी सेक्टर 11 में कारोबारी अमित गुप्ता के साथ की गई थर्ड डिग्री टॉर्चर के मामले में किया गया है। पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि जब कारोबारी अमित गुप्ता अपनी कार से कहीं जा रहे थे, तो उनकी कार पुलिसकर्मी की बाइक से टकरा गई। इसके बाद नशे में धुत्त पुलिसकर्मियों ने कारोबारी को पकड़ कर काफी बेरहमी से पिटाई की। साथ ही अमित को छोड़ने के एवज में पुलिसकर्मियों ने उसके परिजनों से काफी मोटी रकम भी ऐंठ लिये।

Untitled

कारोबारी अमित की बेवजह पिटाई और पुलिसकर्मियों की गुंडागर्दी की खबर जब इलाके के लोगों और कारोबारियों के बीच पहुंची तो सभी में आक्रोश फैल गया। सैकड़ों की संख्या में आरड्ब्ल्यूए, सामाजिक कार्यकर्ता और स्थानीय लोग थाने के बहार जमा हो गए और जमकर पुलिस की बर्बरता के खिलाफ प्रदर्शन किया। लोगों का कहना है कि प्रशांत विहार थाना पुलिस ऐसी बर्बरता पहले भी कई लोगों के साथ कर चुकी है। वहीं लोगों ने पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर जोरदार प्रदर्शन किये और हड़ताल भी किये। लोगों के गुस्सा को देखते हुए डीसीपी ऋषिपाल ने आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सस्पेंड करने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने एसएचओ एस.एस.राठी के खिलाफ भी विभागीय जांच के आदेश दिए। वहीं पुलिसकर्मियों के खिलाफ पुलिस विभाग की कार्रवाई के बाद प्रदर्शनकर्ता शांत हुए।  पीड़ित कारोबारी अमित गुप्ता, उनके परिवार, इलाके के लोग और विधायक महेंद्र गोयल डीसीपी के इस कार्रवाई पर संतोष व्यक्त किये। साथ ही लोगों ने डीसीपी की इस कार्रवाई की प्रशंसा करते हुए पुलिस विभाग को धन्यवाद दिया।

वहीं दिल्ली दर्पण टीवी द्वारा कारोबारी अमित गुप्ता से मारपीट की खबर को बेहतर और सटीक ढंग से दिखाने के लिए क्षेत्र के विधायक महेंद्र गोयल ने दिल्ली दर्पण टीवी को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली दर्पण टीवी इस खबर को नहीं दिखाया होता तो संभवतः पीड़ित कारोबारी को न्याय नहीं मिल पाता। साथ ही उन्होंने कहा, ‘उम्मीद करते हैं कि दिल्ली दर्पण टीवी भविष्य में भी इस तरह की सच्ची खबर को दिखाता रहेगा।’

गौरतलब है कि प्रशांत विहार थाना पुलिस ने 17 मई की रात को कारोबारी अमित गुप्ता को रात भर महज इसलिए बेरहमी से पीटा की उसकी कार पुलिसवालों की बाईक से टकरा गयी थी। जब पीड़ित कारोबारी के परिजन इसकी शिकायत लेकर थाना पहुंचे तो किसी पुलिसवालों ने उनकी एक न सुनी। साथ ही घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फूटेज के साथ भी छेड़छाड़ करने की कोशिश की और चश्मदीदों को धमकाया भी।

 

Comments are closed.