राज्य सरकार को है किसानों की चिंता – ओमप्रकाश धनखड़

कांग्रेस ने कभी नहीं दिया दस हजार रूपए प्रति एकड़ मुआवजा
– जिला स्तर पर जारी किया गया हैल्पलाईन नम्बर
– केन्द्रीय वित्त मंत्री ने अधिक सहायता का दिया है भरोसा
– प्रभावित किसानों को चिनी मिलों से होगा तुरंत भुगतान
– सरकार ने किए बिजली बिल व ब्याज माफ
– बरसात व ओलावृष्टि ने तोड़ा सौ साल का रिकार्ड
– कृषि मंत्री ने गांव-गांव व खेत-खेत जाकर किसानों से की मुलाकात
– पटवारी सरकार के लिए नहीं किसानों के लिए करें गिरदावरी
रोहतक,  हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा है कि राज्य सरकार को किसानों की चिंता है इसलिए किसानों को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। श्री धनखड़ आज हरियाणा भाजपा के महामंत्री एवं रोहतक के विधायक मनीष ग्रोवर के साथ जिला के ओलावृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के लिए सभी जिलों में एक हैल्पलाईन नम्बर भी जारी किया है।
कृषि मंत्री ने गांव-गांव व खेत-खेत जाकर लोगों से मुलाकात की और कहा कि किसानों को दस हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से क्षतिग्रस्त फसलों का मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर केन्द्र सरकार से ज्यादा पैसा मिला तो मुआवजे की राशि को बढ़ाया भी जा सकता है। विपक्षी दलों के नेताओं को आढ़े हाथों लेते हुए धनखड़ ने कहा कि कांग्रेस की पिछली राज्य सरकार ने कभी भी किसानों को दस हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा नहीं दिया बल्कि चुनाव घोषणा में दस हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा देने का वायदा किया था। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसान आज भी इस बात को नहीं भूला पाए जो कांग्रेस की पिछली सरकार ने उन्हें मुआवजे के रूप में ढ़ाई-ढ़ाई रूपए के चैक दिए थे।
ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि किसानों को जो दस हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा मिलेगा उसमें 3600 रूपए केन्द्र सरकार की ओर से और 6400 रूपए राज्य सरकार की और से दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हाल ही में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केन्द्र सरकार से मुआवजे की राशि बढ़ाने की मांग की है और इस संदर्भ में केन्द्र सरकार से सकारात्मक संकेत मिले हैं। उन्होंने कहा कि अगर केन्द्र सरकार 3600 रूपए की बजाय पांच हजार रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा देती है तो इस बढ़ी हुई राशि को राज्य सरकार अपनी तिजोरी में नही डालेगी बल्कि यह बढ़ा हुआ पैसा सीधे किसानों की जेब में जाएगा। कृषि मंत्री ने कहा कि वास्तविक काश्तकार को मुआवजा दिलाने के लिए राज्य सरकार ने एक फार्म जारी किया है, जिसमें वास्तविक काश्तकार को सभी हिस्सेदारों के हस्ताक्षर करवाने होंगे और इसके बाद उसे मुआवजे का चैक दे दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मुआवजे को अलग-अलग हिस्सों में नहीं बंटने दिया जाएगा।
कृषि मंत्री ने कहा कि पहले 22 मार्च तक नुकसान के आंकलन के आधार पर राज्य सरकार ने केन्द्र से 1136 करोड़ रूपए की मांग की थी लेकिन बाद में हुई ओलावृष्टि की वजह से अब अधिक राशि की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि बैंगलोर में आयोजित भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आश्वस्त किया है कि ओलावृष्टि से प्रभावित राज्यों को केन्द्र सरकार की ओर से वांछित मदद प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में गिरदावरी का कार्य पूरा हो चुका है उन्हें तुरंत राहत प्रदान की जाएगी और अपै्रल में हुई ओलावृष्टि की वजह से गिरदावरी की समयावधि 15 अपै्रल तक बढ़ा दी गई है। उन्होंने कहा कि गिरदावरी का कार्य पूरा होने के बाद एक माह के भीतर किसानों को मुआवजे की राशि के चैक दे दिए जाएंगे। धनखड़ ने कहा कि भाजपा की राज्य सरकार प्रदेश की पहली ऐसी सरकार है जिसने ओलावृष्टि के अगले दिन ही गिरदावरी का कार्य आरंभ कर दिया है।
उन्होंने कहा कि जिन किसानों की फसलों का सौ प्रतिशत नुकसान है उनके गन्ने की पिराई प्राथमिकता के आधार पर करने के निर्देश दिए गए हैं और ऐसे गन्ना उत्पादक किसानों को चीनी मिल द्वारा तुरंत भुगतान किया जाएगा। ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि 50 से 100 प्रतिशत नुकसान पर 100 प्रतिशत तथा 25 से 50 प्रतिशत नुकसान पर 50 प्रतिशत टयूबवैल बिजली बिल एक साल के लिए माफ किए गए हैं। इसी प्रकार एक साल तक फसली ऋण का ब्याज माफ किया गया है और कर्ज की राशि को आगामी तीन वर्षों के लिए एडजस्ट कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस निर्णय से किसान कर्ज का भुगतान किए बिना भी अगला ऋण ले सकेंगे।
कृषि मंत्री ने कहा कि बरसात व ओलावृष्टि ने पिछले 100 वर्षों का रिकार्ड तोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि मार्च व अपै्रल केे महीने में 10-11 एम.एम. बरसात होती थी लेकिन इस बार 100 एम.एम. बरसात व भारी ओलावृष्टि हुई है। धनखड़ ने कहा कि रोहतक जिला के किसान गिरदावरी केे संबंध में उपायुक्त कार्यालय में स्थापित किए गए टेलीफोन नम्बर-01262-230401 पर सम्पर्क कर सकते हैं। ओमप्रकाश धनखड़ ने आज बसाना, सीसर, भराण, अजायब, गिरावड़, महम व लाखनमाजरा आदि गांवों में जाकर क्षतिग्रस्त फसलों का लिया जायजा। उन्होंने मौके पर ही पटवारियों को निर्देश दिए कि वे सरकार के लिए नहीं बल्कि किसानों के लिए गिरदावरी करें। तत्पश्चात कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने रोहतक के सिंचाई विश्राम गृह में एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए अपने निरीक्षण कार्यक्रम की जानकारी दी।
इस अवसर पर भाजपा के जिला अध्यक्ष रमेश भाटिया, पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रदीप जैन, महासचिव राजबीर आर्य, शमशेर खरकड़ा, रमेश बल्हारा, शमशेर खरक, बलराज कुण्डू, जोगिन्द्र सैनी, कुलविन्दर सिक्का, सतीश मोखरा, गुलशन दुआ के अलावा अतिरिक्त उपायुक्त अमित खत्री व महम के एसडीएम दलबीर सिंह फौगाट भी उपस्थित थे।

Comments are closed.