Sunday, May 19, 2024
Homeअपनी पत्रिका संग्रहपत्रकारों के लिए किया गया प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन

पत्रकारों के लिए किया गया प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन

जूही तोमर, संवाददाता

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के सत्याग्रह मंडप में सोमवार की सुबह ,सभी पत्रकारों के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। वहीं दिल्ली पत्रकार संघ में कई पत्रकारों ने इस समारोह में हिस्सा लिया और “पत्रकारिता में सत्य-साधना पर चर्चा की। इस समारोह के मुख्य अतिथि नगर निगम के महापौर श्री जयप्रकाश रहे, जिन्होंने इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया। वहीं इस मौके पर कोरोना काल के वक़्त जिन्होंने लोगो की मदद की , उन्हें कोरोना वारियर्स पुरस्कार से भी नवाज़ा गया।

वही इस कार्यक्रम में मनोहर सिंह ने अपने विचारों को जनता के सामने रखा। पत्रकारिता को लेकर मनोहर सिंह ने कहा कि सोशल मीडिया कई बार गलत प्रभाव डालता है , जनता को सच्चाई देखनी है और हम पत्रकारों को सच्चाई का साथ देना है , जनता को देश दुनिया की सच्चाई से हमें वाकिफ़ करवाना ही हमारा कर्तव्य है। उन्होंने आगे कहा मीडिया दो हिस्सों में बटा है, एक जो पक्ष का साथ देता है दूसरा वो जो विपक्ष का साथ देता है, इससे जनता का विशवास डोलता है।

वहीं इस कार्यक्रम में आगे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राम बहादुर रॉय जुड़े। पत्रकारिता में सत्य साधना पर मौजूदा लोगों के साथ अपने विचार पेश किए। उन्होंने कहा पत्रकारिता के धर्म और कर्तव्य को ध्यान में रखना चाहिए ,जो सत्य है उसके पक्ष में आवाज़ उठानी चाहिए। आगे उन्होंने ने कहा कि एक सच्चे पत्रकार को पहले देखना है,  सुनना है और फिर निर्णय लेना है। वहीं उन्होंने सत्य की साधना पर बात करने को एक रचनात्मक विचार बताया है। उनका मानना है कि सोशल मीडिया पर कई बार फेक न्यूज़ दिखाई जाती है , जिसमें की जनता उस पर विश्वास कर ले और वही दूसरी ओर एक अच्छा पत्रकार उस न्यूज़ को सच्चाई के साथ दिखाता है, ऐसे में जनता का विश्वास डोलने लगता है।

इसके बाद वरिष्ठ पत्रकार ओंकारेश्वर पांडेय ने अपने विचार रखे और उन्होंने सत्य की साधना को पत्रकारिता का दूसरा नाम बताया , वहीं उन्होंने कहा कि पत्रकारिता में नौकरी  नहीं करनी बल्कि पत्रकारिता वंचितों की आवाज़ है। हमें सत्य को उजागर करना है और समाज की मदद करना भी हमारा ही कर्तव्य है। वहीं उन्होंने पत्रकारिता में सत्य साधना का होना महत्वपूर्ण माना है। उनका कहना है कि जो सत्य लिखता है या जनता को सच्चाई सेवा से वाकिफ करवाता है, उस पर दबाव बनाया जाता है। पत्रकारिता की स्वतंत्रता को लेकर चर्चा की,  कहा किसी भी पत्रकार को अपनी आज़ादी का गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। वही उन्होंने आगे कहा जो सत्य को छुपाना चाहता है वही गलत है। वहीं विज्ञपनों पर टीआरपी, लालच और दबाव डालने की बात कही। आगे कहा कि सभी को स्वतंत्र तरीके से बात रखने का मौका मिलना चाहिए आखिरकार हम लोकतंत्र का चौथा खंबा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments