‘आप’ मतभेद में एमएलए अमानतुल्लाह आउट, कुमार विश्वास का बढा क़द

आम आदमी पार्टी में अंदरुनी कलह का दौड़ जारी है। पार्टी नेताओं के बीच मतभेदों की वजह से एक के बाद एक नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता तक देखना पड़ रहा है। कुछ नेताओं पर भ्रष्टाचार में संलिप्तता का आरोप है,  तो कुछ नेताओं पर कई अन्य आरोप भी हैं। कुल मिलाकर देखा जाय तो दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार पर संकट का बादल छाया हुआ। चंद ही दिनों पहले मीडिया में किराड़ी से आम आदमी पार्टी के विधायक ऋतुराज का विडियो वायरल हुआ था, जिसमें विधायक ऋतुराज क्षेत्र में गैर कानूनी धंधेबाजों और अवैध कार्य करने वालों से सांठ-गांठ करने की बात कहते हुए दिखाई दे रहे थे। वहीं वह पूरे थाना को सेटिंग करने की भी चर्चा करते हुए दिखाई पड़ रहे थे। इस मामले को लेकर राजनीतिक गलियारों में पार्टी की किड़किड़ी हो ही रही थी, इसी बीच पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान का कुमार विश्वास पर लगाये गये आरोप और कुमार विश्वास के पलटवार को लेकर एक बार फिर पार्टी की किड़किड़ी शुरु हो गयी है। वहीं आम आदमी पार्टी की इस अंतर्कलह से विपक्षी पार्टियों को एक और मुद्दा मिल गया।

आम आदमी पार्टी में अब चर्चा में हैं ओखला से पार्टी विधायक अमानतुल्लाह खान, जो पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी के सदस्य भी हैं ।  विधायक अमानतुल्लाह खान को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निलंबित कर दिया गया है। पार्टी ने ऐसा इसलिए किया है कि अमानतुल्लाह खान ने पार्टी नेता कुमार विश्वास पर भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एजेंट होने का आरोप लगाया था। साथ ही उन्होंने कुमार विश्वास पर यह भी आरोप लगाया था कि वह पार्टी को तोड़ने के पीछे लगे हुए हैं और पार्टी तोड़कर अपना अधिकार जमाना चाहते हैं।  साथ ही आरोप लगाते हुए खान ने कहा था कि कुमार विश्वास पार्टी विधायकों को अपने घर बुलाकर कहते हैं कि अरविंद केजरीवाल को हटाकर मुझे पार्टी संयोजक बनाओ नहीं तो बीजेपी में चलो। अमनातुल्लाह ने कहा है कि इस कार्य के लिए कुमार विश्वास पार्टी के ही 4 विधायकों को रखे हुए हैं। वहीं उन्होंने कहा इस मामले को लेकर चारों विधायकों की एक मीटिंग भी हुई है।  इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा था कि पूरी साजिश के तहत कुमार विश्वास को पार्टी में प्लांट किया गया है और इनका संबंध राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और दिल्ली पुलिस के पूर्व कमिश्नर बीएस बस्सी से भी है। वहीं खुद पर लगे आरोप से बौखलाये कुमार विश्वास ने अमानतुल्लाह खान को सिर्फ एक मुखौट बताते हुए कहा कि इनके पीछे किसी और का हाथ है । साथ ही कुमार विश्वास ने कहा कि 24 घंटे में वह यह तय कर लेंगे कि आगे उन्हें क्या करना है।

वहीं विधायक अमानतुल्लाह खान के बयान और कुमार विश्वास की नाराजगी के बाद पार्टी के इस अन्दरुनी कलह की स्थिति को संभालने के लिए आम आदमी पार्टी सुप्रीमो और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, कपिल मिश्रा, संजय सिंह, आशुतोष, अवतार सिंह आदि पार्टी के कई वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास से मुलाकात पर उन्हें मनाने की कोशिश किये। वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कुमार विश्वास की कुछ नाराजगियां हैं, जिसे जल्द ही दूर कर लिया जाएगा । वहीं कुमार विश्वास की मौजूदगी में पार्टी की  पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की बैठक हुई।  इस बैठक में पार्टी हाईकमान ने विधायक अमानतुल्लाह को बाहर का रास्ता दिखाते हुए  कुमार विश्वास को राजस्थान का चुनाव प्रभारी बना दिया है। हालांकि कुमार विश्वास ने कहा कि उन्हें किसी पद का लालच नहीं है और वह पार्टी की गलतियों को उजागर करते रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा है कि देशहित में जो भी सही होगा उसे बोलने से वह नहीं रुकेंगे। इतना ही नहीं पार्टी के फैसले के बाद कुमार विश्वास ने ट्वीट कर कहा कि

आम आदमी पार्टी के अंतर्कलह ने राजनीतिक रंग लेना भी शुरु कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि जो भी आम आदमी पार्टी को सलाह देता है उनको ये लोग साइड लाइन कर देते हैं। उन्होंने कहा कि कुमार विश्वास ने हमेशा कहा है कि वह देश और जवानों के मुद्दे पर बोलते रहेंगे। वह आम आदमी पार्टी में जरूर हैं, लेकिन वह देश के जवानों के लिए और देश के लिए राष्ट्रभक्त की तरह खड़े रहे हैं। वहीं बीजेपी विधायक ओपी शर्मा ने कहा कि जिस तरह से आम आदमी पार्टी के अंदर हालात बने हुए हैं, उसको देखकर लग रहा है कि इस साल के अंत तक या अगले साल मार्च तक दिल्ली में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं। वहीं दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने कहा है कि ‘आप’ में इस्तीफे का दौड़ तो अभी शुरू ही हुआ है और यह सिलसिला जारी रहेगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों नगर निगम चुनाव के दौरान बीजेपी नेता प्रवेश वर्मा ने कहा था कि दिल्ली में जल्द ही विधानसभा चुनाव होने वाला है। वहीं आम आदमी पार्टी में जारी अंतर्कलह, पार्टी विधायकों पर भ्रष्टाचार समेत कई अन्य मामलों में लग रहे आरोप और एक के बाद एक नेताओं की पार्टी से हो रही छुट्टी प्रवेश वर्मा के बयान पर जैसे अपनी मोहर लगा रही है।

 

Comments are closed.