Friday, April 19, 2024
Homeअन्यFraud busted by another Gujarati : 5 स्टार होटल में रातें, Z +...

Fraud busted by another Gujarati : 5 स्टार होटल में रातें, Z + सिक्योरिटी…ब्यूरोक्रेट्स को देता था PMO में टॉप अफसर होने का झांसा, जम्मू कश्मीर में धरा गया गुजरात का किरण पटेल 

नई दिल्ली 

जो लोग पीएम मोदी के भक्त बने घूम रहे हैं वे जरा इस दौर के गुजरात के महारथियों के कारनामों के बारे में जान लें। चाहे हर्षद मेहता हो, नीरव मोदी हो, गौतम अडानी हों या फिर जम्मू कश्मीर में गिरफ्तार हुए पीएमओ का फर्जी अफसर किरण पटेल। ये सब टोपी पहनाने में माहिर रहे हैं। एक व्यक्ति पीएमओ का अफसर बनकर मजे मारता रहा और न तो खुफिया एजेंसी को पता चला और न ही पीएमओ को। क्यों गुजरात का आदमी टोपी पहनाने में माहिर माना जाता है। मतलब एक और गुजराती की ठगी का भंडाफोड़ हो गया है।
Gujarat Conman Kiran Patel: प्रधानमंत्री कार्यालय का वरिष्ठ अधिकारी बताकर जम्मू कश्मीर प्रशासन से जेड-प्लस सुरक्षा, एक बुलेटप्रूफ महिंद्रा स्कॉर्पियो एसयूवी, पांच सितारा होटल में आधिकारिक प्रवास की सुविधा समेत और भी बहुत सी सुविधा लेने और सुरक्षा व्यवस्था का खुले तौर पर मजाक उड़ाने में वाले ठग किरण भाई पटेल को पुलिस ने गिरफ्तार करने के बाद 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इस बीच, पटेल के वकील रेहान गौहर ने दावा किया कि उनके मुवक्किल के साथ एक और व्यक्ति था। गौहर ने कहा, “पुलिस ने मजिस्ट्रेट के समक्ष धारा 16ए के तहत उनका (किरण पटेल का) बयान दर्ज किया, लेकिन एक अन्य व्यक्ति को रिहा कर दिया गया।”

सभी आरोप निराधार : किरण पटेल

किरण पटेल ने अपने खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों का खंडन करते हुए उन्हें निराधार करार दिया। पटेल के परिवार का मानना है कि यह किसी राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता का हिस्सा है। पटेल के खिलाफ श्रीनगर के निशात पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। ठग किरण भाई पटेल ने इस साल की शुरुआत में श्रीनगर के अपने दो दौरों के दौरान अधिकारियों के साथ कई बैठकें भी की थीं।

खुद को प्रधानमंत्री कार्यालय में रणनीति और अभियानों का जिम्मा संभालने वाला एडिशनल डायरेक्टर बताने वाले पटेल को करीब 10 दिन पहले गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उसकी गिरफ्तारी को पुलिस ने गोपनीय रखा। गुरुवार को मजिस्ट्रेट द्वारा न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद यह मामला सामने आया। यह स्पष्ट नहीं है कि उसकी गिरफ्तारी के दिन ही एफआईआर दर्ज की गई थी या वह दर्ज करने में कुछ देरी हुई थी।

पटेल ने फरवरी में की पहली यात्रा

ठग किरण भाई पटेल ने घाटी में पहली यात्रा फरवरी में की। तब उसने हेल्थ रिसॉर्ट्स का दौरा किया था। अर्धसैनिक बल और पुलिस की सुरक्षा के साथ उसके विभिन्न स्थानों की यात्राओं के कई वीडियो हैं। वह पैरामिलिट्री गार्डों के साथ बडगाम के दूधपथरी में बर्फ के बीच से जाता हुआ नजर आ रहा है। वह श्रीनगर में क्लॉक टॉवर लाल चौक के सामने फोटो खिंचवाते हुए भी पाया गया।

सूत्रों का कहना है कि पटेल ने गुजरात से अधिक पर्यटकों को लाने के तरीकों और दूधपथरी को एक प्रमुख पर्यटन स्थल बनाने के बारे में अफसरों के साथ चर्चा भी की थी, लेकिन दो सप्ताह के भीतर अपने दूसरे दौरे पर श्रीनगर आने के बाद पटेल संदेह के घेरे में आ गया।

गुजरात भाजपा के महासचिव प्रदीप सिंह वघेला भी पटेल को ट्विटर पर करते फॉलो

पटेल का टि्वटर पर वेरिफाइड अकाउंट है। उसको हजारों लोग फॉलो करते हैं, जिसमें गुजरात भाजपा के महासचिव प्रदीप सिंह वघेला भी शामिल हैं। पटेल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर कुछ वीडियो भी शेयर किए थे, जिसमें उसने ऑफिसियल दौरा बताया था। शेयर किए गए वीडियो में पटेल जवानों के साथ नजर आ रहा है।

ठग किरण भाई पटेल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इस बात का भी जिक्र किया है कि उसके पास वर्जीनिया की कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटी से पीएचडी और आईआईएम त्रिची से एमबीए की डिग्री हैं। कंप्यूटर साइंस में एमटेक और कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बीई होल्डर है। उसने खुद को इसके अलावा विचारक, रणनीतिकार, विश्लेषक और कैंपेन मैनेजर भी बताया है।

पुलिस ने कहा कि उसके खिलाफ अहमदाबाद और बड़ौदा के पुलिस थानों में 2017 से धोखाधड़ी, जालसाजी और विश्वासघात सहित भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत तीन मामले दर्ज हैं। पुलिस ने बताया कि उसने भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा के रूप में माने जाने वाले पुल पर तस्वीरें खिंचवाते हुए उत्तरी कश्मीर के उरी में अंतिम चौकी का दौरा भी किया था।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments