Sunday, June 23, 2024
Homeअन्यSahara Protest : 26 मार्च के जयपुर प्रोटेस्ट को सफल बनाने की...

Sahara Protest : 26 मार्च के जयपुर प्रोटेस्ट को सफल बनाने की अपील 

क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी कार्यकर्ता एवं निवेशक संघर्ष समिति राजस्थान के संयोजक विजय वर्मा ने अपील की है कि सभी निवेशक और जमाकर्ता 26 मार्च के जयपुर प्रोटेस्ट को सफल बनायें। उन्होंने कहा है कि देश में वर्ष 1991 में लागू की गई उदारीकरण, निजीकरण एवं वैश्वीकरण की नीतियों से सहारा, आदर्श, संजीवनी जैसे क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों को जनता के साथ धोखाधड़ी कर लूटने का मौका दिया गया। जनता को अच्छे भविष्य का सपना दिखा उनका सहारा ही लूट लिया गया। विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों पर यह कानून लागू होता है कि निवेशकों को निवेश की गई राशि सदस्यों के बीच में ही वितरित की जाएगी, लेकिन इन संस्थानों के प्रबन्धन यह राशि अपनी अय्याशी में एवं अन्य जगह निवेश कर कानून की सरेआम धज्जियां उडाई।
उन्होंने कहा है कि विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ राजस्थान के कई जिलों में मुकदमे दर्ज कराये गए लेकिन अभी तक न तो प्रबन्धन की गिरफ्तारी कराई गई और न ही निवेशकों को उनकी जमा राशि का भुगतान ही किया गया। उन्होंने कहा है कि अब उनको कानूनी लड़ाई लड़ने के साथ सड़कों पर भी इस लड़ाई को लड़ना होगा।

उन्होंने कहा है कि इतिहास हमेशा संघर्ष करने वालों को ही याद करता है। चापलूसी और गुलामी करने वाले को कूड़ेदान में डाल देता है।  हम न तो थके हैं और न ही निराश हैं। हम आशावादी हैं और हमें अपने संघर्ष पर भरोसा है और हम कामयाब होंगे। ऐसे में सहारा एवं विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा आम निवेशकों के साथ की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ आन्दोलन को प्रदेशव्यापी एवं देशव्यापी बनाने के लिए 26 मार्च को सुबह 11ः00 बजे मजदूर किसान भवन, शांति नगर, हडवाडा रोड़, जयपुर पहुंचना है। उनका कहना था कि इस आंदोलन में राजस्थान के अधिकांश जिलों से क्रेडिट को-ऑपरेटिव  सोसायटी में काम करने वाले कार्यकर्ता एवं निवेशकर्ता भाग लेंगे।
दरअसल क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी कार्यकर्ता एवं निवेशक संघर्ष समिति राजस्थान के बैनर तले 26 मार्च को होने जा रहे आंदोलन में प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ज्ञापन दिया जाएगा। इस ज्ञापन में कहा गया है कि सहारा, आदर्श, संजीवनी एवं विभिन्न क्रेडिट सोसायटियों द्वारा की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ जमाकर्ता और निवेशक सड़कों पर हैं। सीएम को दिए जाने वाले ज्ञापन में कहा गया है कि पूरे देश में मध्यम एवं गरीब वर्ग के लोगों ने अपने जीवनभर की गाढ़ी कमाई को विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटीयो में जमा करा दी है और जो अब नहीं मिल रही है। ज्ञापन के माध्यम से कहा जाएगा कि  5 वर्षों से सहारा इण्डिया, आदर्श, संजीवनी आदि सोसायटीयों द्वारा निवेशकों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है। विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटीयों द्वारा निवेशकों के साथ की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ पुरे देश में संघर्ष एवं आन्दोलन हो रहे है, लेकिन कार्पोरेट, सरकार, प्रशासन एवं पुलिस की मिलीभगत के कारण इस संघर्ष एवं आन्दोलन को अनसुना किया जा रहा है। सहारा इण्डिया द्वारा कथित रूप से माननीय सर्वोच्च न्यायालय एवं विभिन्न माननीय न्यायालय द्वारा स्टे आदेश होने का बता आम निवेशकों को राशि भुगतान नहीं कर गुमराह किया जा रहा है।इस ज्ञापन में संगठन के संयोजक विजय वर्मा ने कहा है कि एक तरफ विभिन्न क्रेडिट को-आपरेटिव सोसायटियों द्वारा आम निवेशकों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है तो दूसरी तरफ ज्यादा ब्याज राशि का भुगतान करने की योजना बना अभी भी आम जनता को लूटने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा है कि उदयपुर संभाग में ही निवेशकों को लगभग 20 हजार करोड़ रुपये विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव  सोसायटीयों द्वारा भुगतान नहीं किया गया है। एक तरफ तो आम निवेशकों को विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटीयों द्वारा निवेशकों को कार्यालय पर चक्कर लगाने एवं निवेश की गई राशि का भुगतान करने की मांग पर निवेशको को राशि का भुगतान न कर उनका अपमान किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ प्रभावशाली लोगों को एवं दबाव बनाने वाली लोगों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान किया जा रहा है ।


उन्होंने कहा है कि देश में लागू की गई उदारीकरण, निजीकरण एवं वैश्वीकरण की नीतियों से सहारा, आदर्श, संजीवनी जैसे विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों को जनता के साथ धोखाधड़ी कर लूटने का मौका दिया और जनता को अच्छे भविष्य का सपना दिखा उनका सहारा ही लूट लिया गया। विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों पर यह कानून लागू होता है कि निवेशकों को निवेश की गई राशि सदस्यों के बीच में ही वितरित की जाएगी लेकिन इन संस्थानों के प्रबन्धन यह राशि अपनी अय्याशी में एवं अन्य जगह निवेश कर कानून की सरेआम धज्जियां उड़ाई। ज्ञापन में मांग की गई है कि विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ राजस्थान के कई जिलों में मुकमदें दर्ज कराये, लेकिन अभी तक दोषी प्रबन्धन की गिरफ्तारी नहीं की गयी है और न ही निवेशकों को उनकी जमा राशि का भुगतान किया गया है।

विजय वर्मा ने कहा है कि पूरे देश में मध्यम एवं गरीब वर्ग के लोगों ने अपने जीवनभर की गाढ़ी कमाई को विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटीयो में ज्यादा ब्याज एवं लाभ पाने की उम्मीद में निवेश किया, लेकिन पिछले 5 वर्षों से सहारा इण्डिया, आदर्श, संजीवनी आदि सोसायटीयों द्वारा निवेशकों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है।विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव  सोसायटीयों द्वारा निवेशकों के साथ की गई धोखाधड़ी एवं लूट के खिलाफ पुरे देश में संघर्ष एवं आन्दोलन हो रहे है, लेकिन कार्पोरेट, सरकार, प्रशासन एवं पुलिस की मिलीभगत के कारण इस संघर्ष एवं आन्दोलन को अनसुना किया जा रहा है। सहारा इंडिया द्वारा कथित रूप से  सर्वोच्च न्यायालय एवं विभिन्न न्यायालय द्वारा स्टे आदेश होने का बता आम निवेशकों को राशि भुगतान नहीं कर गुमराह किया जा रहा है।

एक ओर विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा आम निवेशकों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है तो दूसरी ओर ज्यादा ब्याज राशि का भुगतान करने की योजना बना अभी भी आम जनता को लूटने का प्रयास किया जा रहा है। उदयपुर संभाग में ही निवेशकों को लगभग 20 हजार करोड़ रुपये विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा भुगतान नहीं किया गया है। एक तरफ तो आम निवेशकों को विभिन्न क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटियों द्वारा निवेशकों को कार्यालय पर चक्कर लगाने एवं निवेश की गई राशि का भुगतान करने की मांग पर निवेशको को राशि का भुगतान न कर उनका अपमान किया जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ प्रभावशाली लोगों को एवं दबाव बनाने वाली लोगों को उनके द्वारा निवेश की गई राशि का भुगतान किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments