एक हादसे ने बदल दी सलमान खान की जिंदगी

 मुंबई बॉलीवुड के ‘बैड ब्वॉय’ की छाप से लेकर फिल्म उद्योग में राज करने वाले सुपरस्टार बनने तक का सलमान खान का सफर अपने साथ जितनी परेशानियां लाया, उतनी ही सौगातें भी लाया। 49 वर्षीय सलमान को आज मुंबई की एक अदालत ने गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराते हुए पांच साल की सजा सुनाई है। असल में इस हादसे ने सलमान खान की जिंदगी को पूरी तरह बदलकर रख दिया था। संजय दत्त के बाद सलमान मुंबई फिल्म उद्योग के दूसरे बड़े फिल्म स्टार हैं, जो हाल के वर्षों में एक हाई-प्रोफाइल आपराधिक मामले में शामिल रहे हैं। ‘मैंने प्यार किया’, ‘हम आपके हैं कौन’, ‘करण अर्जुन’, ‘जुड़वां’, ‘प्यार किया तो डरना क्या’ और ‘हम साथ-साथ हैं’ जैसी अनेंक फिल्मों में अपनी खास भूमिकाओं के लिए पहचाने जाने वाले सलमान ने पिछले दशक में खुद को पूरी तरह बदल डाला है। आलोचकों का कहना है कि बॉलीवुड के इस आकर्षक लड़के के बारे में बीते वर्षों में लोगों की धारणा बदली है। उनका कहना है कि एक बैड ब्वॉय से वह एक ऐसा इंसान बन गए हैं, जिसे हर कोई पसंद करता है। मीडिया के साथ अपने खट्टे-मीठे रिश्तों के कारण अक्सर चर्चा में बने रहने वाले सलमान का उस समय मीडिया से झगड़ा हो गया था, जब 90 के दशक में वह ‘सनम बेवफा’ के सेट पर फोटो पत्रकारों से उलझ गए थे। इसके बाद कुछ फिल्म पत्रिकाओं ने उन्हें प्रतिबंधित भी कर दिया था। हालांकि सलमान के आलोचक भी इस बात पर एकमत हैं कि कई फिल्मी अभिनेत्रियों के साथ प्रेम संबंध में रह चुके सलमान का दिल सोने जैसा है। एक वरिष्ठ फिल्म पत्रकार के अनुसार, ‘‘वह एक बेहद आज्ञाकारी पुत्र हैं और यहां तक कि अपने पिता की दूसरी पत्नी हेलेन को भी वह पूरा सम्मान देते हैं।’’ सलमान के साथ करीबी बातचीत कर चुके एक पत्रकार ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, ‘‘वर्ष 2002-03 अभिनेता के लिए एक बुरा दौर था। समय बीतने के साथ उनमें एक इंसान के तौर पर बहुत बदलाव आया है और वह शांत हुए हैं।’’ सलमान को अपने फिल्मी कॅरियर में कई पुरस्कार भी मिले हैं। उनकी दूसरी फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ (1989) के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था। इस फिल्म में वह मुख्य भूमिका में थे। वर्ष 1999 में खान को फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ (1998) के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार मिला। वर्ष 2011 में उन्हें ‘दबंग’ में अपनी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का स्क्रीन अवॉर्ड मिला।

हिट-एंड-रन और काला हिरण शिकार मामलों में जेल काटने के तत्काल बाद आई उनकी फिल्म ‘तेरे नाम’ हिट हुई थी। इस फिल्म में सलमान के साथ भूमिका चावला थीं। फिल्म उद्योग से जुड़े एक व्यक्ति का कहना है कि सलमान अब इस बात को लेकर कहीं ज्यादा सजग हैं कि वे क्या काम कर रहे हैं? वह पहले की तरह लापरवाह नजर नहीं आते। उन्होंने यह भी कहा कि वर्ष 2007 में आई फिल्म ‘वांटेड’, उनके टीवी शो ‘दस का दम’ के दो सत्र, बाद में एक अन्य रिएलिटी शो ‘बिग बॉस’ और उनके एनजीओ ‘बीइंग ह्यूमन’ सलमान की छवि और पेशेवर कॅरियर में काफी सकारात्मक बदलाव लेकर आए। फिल्म उद्योग से जुड़े एक सूत्र ने कहा, ‘‘उनका ध्यान पैसा कमाने पर है ताकि वह उसका इस्तेमाल ‘बीइंग ह्यूमन’ में कर सकें।’’ सलमान मंगलवार को ही ‘बजरंगी भाईजान’ की शूटिंग से श्रीनगर से लौटे हैं। न्यायाधीश डी डब्ल्यू देशपांडे ने जब फैसला सुनाया, तब सलमान अदालत कक्ष में ही मौजूद थे। उनकी दो निर्माणाधीन फिल्मों ‘बजरंगी भाईजान’ और ‘प्रेम रतन धन पायो’ की शूटिंग फिलहाल अंतिम चरण में है। ‘बजरंगी भाईजान’ में सलमान के साथ करीना कपूर हैं और ‘प्रेम रतन धन पायो’ में उनके साथ सोनम कपूर हैं। दो निर्माणाधीन फिल्मों के साथ-साथ कई विज्ञापनों के कारण लगभग 200 करोड़ रूपए का निवेश सलमान के साथ जुड़ा हुआ है। निजी जिंदगी में, सलमान के पिता सलीम खान उनके जीवन में एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं। पिता द्वारा पुत्र का फिल्मी कॅरियर लॉन्च किए जाने के बजाय सलमान ने जैकी श्रॉफ अभिनीत फिल्म ‘फलक’ में शशिलाल नायर के सहायक के रूप में काम किया था। इसके बाद उन्हें फिल्म ‘बीवी हो तो ऐसी’ में एक अभिनेता के तौर पर काम मिला था।

Comments are closed.