Friday, April 19, 2024
Homeआज का दिनyahoo! भी था कभी इंटरनेट का राजा

yahoo! भी था कभी इंटरनेट का राजा

नेहा राठौर ( 18 जनवरी)

18 जनवरी 1995 को याहू डॉट कॉम का डोमेन बनाया था। वही yahoo ये दोनों उपयोगी वेब साइटों को ढूंढने के लिए एक जगह की तलाश कर रहे थे या ये भी कह सकते है कि एक तरह से इंटरनेट पर अपने हितों का ट्रैक रखने के लिए, लेकिन वे दोनों इस तरह के उपकरण को ढूंढने का प्रबंधन नहीं करते थे इसलिए उन्होंने खुद का ही कुछ बनाने का सोचा। इस तरह शौक-शौक में सर्वव्यापी वेब पोर्टल और एक तरह का ब्रांड याहू! बनाया गया। यह वेब पोर्टल एक साइट के रूप में उभरा, जिसने लोगों को एक दूसरे के साथ संवाद करने, किसी भी जानकारी को खोजने और तरीके को ही बदल दिया था।

ये भी पढ़ें   – मार्टिन लूथर किंग जूनियर का अवकाश विद्रोह/

जेरी यांग और डेविड फिलो

फरवरी, 1994 में फिलो और यांग ने एक कैंपस ट्रेलर में अपनी इस परियोजना पर काम करना शुरू किया था। इस दौरान वे अपना ज्यादा से ज्यादा समय डॉक्टरेट शोध प्रबंधों की बजाय पसंदीदा लिंक के लिए सूची बनाने में लगा रहे थे। आखिरकार, दोनों ने एक बहुत लंबी सूची तैयार की लेकिन सूची में कुछ समझ ना आने पर उन्होंने सूची को कई भागों में तोड़ दिया और फिर उन भागों के भी कई टुकड़े किये गए।

इस तरह याहू के पीछे मूल अवधारणा का जन्म हुआ। इस तरह जब यह तैयार हो गया तो इस वेब साइट की शुरूआत जेरी और डेविड की गाइड टू द वर्ल्ड वाइड वेब के रूप में हुई, लेकिन अब उन्हें एक नया नाम चाहिए था जिससे यह जाना जाए इसलिए याहू नाम को चुना गया, क्योंकि उन्हें छोटा और स्पष्ट शब्द ही पसंद था। बनने के बाद याहू नाम पदानुक्रमित ऑफिंसल ऑरेकल के लिए एक बैरोनिअम के रूप में लोकप्रिय हुआ।

ये भी पढ़ें   – सिग्नल ऐप पर भी लोगो की बड़ी दिक्क़तें

याहू! बनकर तैयार हुआ

याहू! डोमेन 18 को बनकर पूरा हुआ। मार्च 1995 में, इन दोनों ने इसे व्यवसाय में शामिल किया और पैसों कमाने के लिए कई सिलिकॉन वैली उद्यम पूंजीपतियों से मिले। आखिर में वो सिकोइया कैपिटल के माइकल मोरित्ज़ के पास आए, जो कि एक जाने मानी फर्म है, जिनके सफल निवेशों में Apple कंप्यूटर, अटारी, ओरेकल और सिस्को सिस्टम्स शामिल हैं। यह याहू को फंड देने को राज़ी हो गया और अप्रैल 1995 में 2 मिलियन डॉलर के साथ निवेश किया।

बाकी वेब सर्च इंजनों की तरह, याहू ने एक वेब निर्देशिका के रूप में शुरूआत की, लेकिन जल्द ही एक वेब पोर्टल और एक खोज इंजन में कुछ परेशानी आई। अपनी नई कंपनी को महसूस करने के लिए क्षमता तेजी से बढ़ाना था, दोनों ने एक प्रबंधन टीम के लिए ख़रीददारी करना शुरू कर दिया। उन्होंने मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में मोटोरोला के एक अनुभवी टिम कोगल, और मुख्य परिचालन अधिकारी के रूप में नोवेल के वर्डप्रफेक्ट उपभोक्ता डिविजन के संस्थापक जेफरी मैलेट को काम पर रखा था। 

फॉल 1995 में दूसरे दौर की फंडिंग और शुरुआती सार्वजनिक पेशकश के बाद, याहू ने अप्रैल 1996 में 33.8 मिलियन डॉलर जुटाए, जिसमें कुल 49 कर्मचारी थे। इस साइट ने कामयाबी के आसमान को छुआ, लेकिन धीरे-धीरे नई साइटों ने जगह बना ली, जिसमें आज सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला गूगल भी शामिल है, जिस वजह से याहू कंपनी डूब गई।

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे।

आप हमें Twitter , Facebook , और Instagram पर भी फॉलो कर सकते है।   

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments