नहीं रहे सईद ज़ाफ़री

  • फ़िल्मो के जाने माने अभिनेता सईद ज़ाफ़री का रविवार शाम लंदन में निधन हो गया है। वह अपनी ज़िंदगी के 86 साल पुरे कर चुके थे।जाफरी अपने दौर के बेहतरीन कलाकारों में से एक थे। उन्होंने न सिर्फ थियेटर ,बॉलीवुड मैं काम किया है बल्कि अपने अभिनय की छाप हॉलीवुड तक बिखेरी है। सईद जाफरी का जन्म पंजाब में हुआ था और उन्होंने लंदन के RADA अकादमी में एक्टिंग की शिक्षा प्राप्त की ।वो पिछले काफी  समय से लंदन में ही रह रहे थे| सईद जाफरी का विवाह मेहरूनिमा (मधुर जाफरी) के साथ हुआ था। लेकिन 1985 में दोनों अलग हो गए थे। सईद जाफरी की तीन बेटियां मीरा, ज़िया और अकीन है।
    सईद जाफरी एक बहुत अच्छे और बेहतरीन अभिनेता थे। ऐसा कोई किरदार नही था जिसे वह अपने अभिनय व संजीदगी के साथ किरदार में जान डाल देते थे। उनकी कुछ बेहतरीन फ़िल्में हैं – गांधी, मासूम, शतरंज के खिलाड़ी, हिना, राम तेरी गंगा मैली, चश्मे बद्दूर, जुदाई अजूबा, दिल, किशन कन्हैया, घर हो तो ऐसा, राजा की आएगी बारात, मोहब्बत और आंटी नंबर वन।उन्होने द मैन हू वुडबी किंग, ए पैसेज टू इंडिया, द फ़ार पवेलियंस जैसी अंग्रेजी फ़िल्मों में भी अपने अभिनय का जादू बिखेरा है। बॉलीवुड के महान कलाकारों के साथ हॉलीवुड की महान हस्तियां जिसमें पियर्स ब्रोसनन, शॉन कोनरी और माइकल केन जैसे अंतरराष्ट्रीय नाम सईद जाफरी के सह कलाकार रह चुके हैं। इसके अतिरिक्त तंदुरी नाइट्स और ज्वेल इन द क्राउन जैसे टीवी शोके लिए भी सईद जाफरी जाने जाते रहे हैं| सईद जाफरी का अभिनय इतना जानदार था। उन्होंने खुद कहा था  “मैं हॉलीवुड नहीं गया, हॉलीवुड मेरे पास आया। “
    सईद जाफ़री ने महात्मा गांधी के जीवन पर बनी रिचर्ड एडिनबरा की ऑस्कर विजेता फ़िल्म ‘गांधी’ में सरदार वल्लभ भाई पटेल की भूमिका निभाई थी। जाफरी को साल 1978 में आई सत्यजीत रे की फिल्म ‘शतरंज के खिलाड़ी’ में मीर रोशन अली के किरदार के लिए फिल्मफेयर की ओर से सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार दिया गया था। सईद पहले भारतीय थे जिन्हें ‘आर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर’ से नवाज़ा गया था।सईद जाफ़री को याद करते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट किया है, जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा है, ”सईद जाफ़री बहुमुखी अभिनेता थे। उनके स्वभाव को हमेशा याद रखा जाएगा। उनके निधन पर भावभीनी श्रद्धांजलि|”
    प्रधानमंत्री के साथ कई और बॉलीवुड की हस्तियों ने सईद जाफरी को श्रद्धांजलि देते हुए उनके अभिनय की तारीफ की  है। निर्देशक गोविंद नेहलानी ने कहा, ”सईद जाफ़री एक बेहतरीन अभिनेता थे और उनके जैसे वरिष्ठ अभिनेता को खोना फ़िल्म जगत के लिए बड़ा नुकसान है.”निर्देशक श्याम बेनेगल ने कहा कि वे “सईद जाफ़री के निधन से काफ़ी दुखी हैं और सईद जाफ़री के साथ उनकी कई यादें जुड़ी हैं। जाफ़री के करीब रहे अभिनेता जैकी श्रौफ़ ने कहा कि ” वे बहुत कल्चर्ड और खूबसूरत इंसान थे।उन्होंने कहा कि सईद जाफ़री के साथ उन्होंने काफ़ी वक्त बिताया और वो उनकी बहुत इज्ज़त करते थे। सईद जाफ़री बहुत नफ़ासत के साथ बात करते थे और जब भी मिलते थे बहुत प्यार से मिला करते थे। जैकी को अफ़सोस है कि वो उनके साथ ज़्यादा काम नहीं कर सके “
    सचमुच ही सईद जाफरी एक महान कलाकर थे उन्होंने अपने अभिनय से देश विदेश के सभी लोगों का दिल जीत लिया। हालाँकि उनकी ज़िंदगी में में उत्तर चढ़ाव भी कम नही आए ऊपर से रिश्तों का टूटना पर फिर भी उन्होंने अपने आप को बखूबी संभाला ये कबीले तारीफ है उनका अभिनय इतना संजीदगी भरा था की उन्होंने ऑस्कर विजेता फ़िल्म गांधी और सत्यजीत रे की शतरंज के खिलाड़ी जैसी फ़िल्मों में अभिनय किया और फिल्म में जान  डाल दी।
    अभिनेत्री गुड्डी मारुति ने सईद जाफ़री के साथ एक पंजाबी फ़िल्म में काम किया था, उन्होंने कहा, ” हम दोनों शूटिंग के लिए लुधियाना गए थे, अमृतसर में भी हमने साथ में स्वर्ण मंदिर और जलियांवाला बाग देखा था,” वो बताती हैं, “सईद जाफ़री बहुत ही बेहतरीन कलाकार थे इसमें तो कोई शक नहीं, लेकिन जिस तरह बात करते थे, लगता था कि कोई लोर्ड हों, किसी नवाब की तरह नफ़ासत से बात किया करते थे.”सईद जाफ़री का 86 साल की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने ऑस्कर विजेता फ़िल्म गांधी और सत्यजीत रे की शतरंज के खिलाड़ी जैसी फ़िल्मों में अभिनय किया.

Comments are closed.