नीतीश-लालू मुस्लिम चेहरे नहीं चाहते: तारिक अनवर

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए हुए सीटों के बंटवारे में तीन सीटें दिए जाने से नाराज राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ने लालू प्रसाद, नीतीश कुमार और कांग्रेस के ‘धर्मनिरपेक्ष गठबंधन’ पर निशाना साधते हुए आज कहा कि ये लोग मुस्लिम चेहरे नहीं चाहते और उन्होंने हमेशा अपनी पार्टियों में मुस्लिम नेताओं को दबाने का काम किया क्योंकि वे मुस्लिम वोट को पक्का मानकर चलते हैं। अनवर ने कहा, ‘‘लोकसभा चुनाव में राजद और कांग्रेस के साथ हमारा गठबंधन था। हमें एक सीट दी गई और हमने वो जीती, जबकि राजद ने 27 में से चार और कांग्रेस ने 12 में से दो लोकसभा सीटें जीती थीं। ऐसे में हम इस गठबंधन में कम से कम 12 विधानसभा सीटों की उम्मीद कर रहे थे।’’ उन्होंने कहा कि राजद से निकाले गए सांसद पप्पू यादव ने उनसे चुनाव में समझौते को लेकर संपर्क किया है, लेकिन अभी इस बारे में उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है। राकांपा नेता ने कहा, ‘‘पप्पू यादव ने मेरे सामने ये यह प्रस्ताव रखा था कि अगर हम साथ लड़ते हैं तो हमें बिहार में थोड़ी ताकत मिल सकती है। परंतु मैंने उनसे कहा कि अभी मैं कोई फैसला नहीं करूंगा। अभी हम अपने लोगों से बातचीत करेंगे इसके बाद कोई निर्णय होगा।’’ यह पूछे जाने पर कि सीटों के बंटवारे का ऐलान होने के बाद नीतीश या लालू से उनकी कोई बातचीत हुई है तो अनवर ने कहा, ‘‘अभी कोई बातचीत नहीं हुई। उन्होंने भी अब तक हमसे संपर्क नहीं किया और हमने भी कोई पहल नहीं की है। अगर कोई पहल होती है तो निश्चित तौर पर बातचीत होगी।..अभी विकल्प खुले हुए हैं। वाम दलों के साथ भी हमारी बातचीत चल रही है।’’

लोकसभा में राकांपा संसदीय दल के नेता ने कहा, ‘‘इन्होंने हमें जो प्रस्ताव (तीन सीटों का) दिया है उसे स्वीकारने का सवाल ही नहीं उठता। 18 अगस्त तक हम पार्टी के भीतर विचार-विमर्श कर रहे हैं और इसके बाद कोई फैसला किया जाएगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सीटों के बंटवारे का फैसला एकतरफा है, हमसे इस बारे में बातचीत नहीं की गई। पहले कहा गया था कि बातचीत होगी और फिर सीटों के बंटवारे पर फैसला होगा। परंतु इन लोगों ने आपस में बैठकर तय कर लिया और हमें दरकिनार कर दिया।’’ पिछले दिनों जदयू, राजद और कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के लिए सीटों का फैसला किया। इसके तहत जदयू और राजद 100-100 सीटों और कांग्रेस 40 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। राकांपा को तीन सीटें दी गईं।

 इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राकांपा अपने स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं से विचार-विमर्श कर रही है और 18 अगस्त के बाद कोई फैसला करेगी। अनवर ने जदयू-राजद-कांग्रेस के ‘धर्मनिरपेक्ष गठबंधन’ पर सीधा हमला बोलते हुए कहा, ‘‘ये लोग मुस्लिम चेहरा चाहते ही नहीं हैं। अपनी पार्टी में इन लोगों ने मुस्लिम चेहरों को आगे बढ़ने ही नहीं दिया। उनको दबाकर रखा। उनका इस्तेमाल किया, लेकिन सत्ता में हिस्सेदारी नहीं दी। इनको लगता है कि भाजपा की वजह से मुस्लिम वोट तो हमें जरूर मिलेगा। ये मुस्लिम वोट को पक्का मानकर चलते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इनको मुस्लिम चेहरा नहीं चाहिए, इनको दलित चेहरा नहीं चाहिए। यह इन लोगों की सोच है। यह सोच बिल्कुल गलत है।’’

 

Comments are closed.