Friday, April 12, 2024
Homeअन्यसीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ से माफी मांगकर फंसे कपिल सिब्बल और नीरज कौल,...

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ से माफी मांगकर फंसे कपिल सिब्बल और नीरज कौल, SCBA के 235 मेंबर्स ने एक्शन के लिए दिया प्रस्ताव

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया डीवाई चंद्रचूड़ और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास सिंह हुए विवाद के मामले में कपिल सिब्बल और नीरज किशन कौल बुरे फंसते दिख रहे हैं। बार के 235 सदस्यों को लगता है कि दोनों सीनियर वकीलों ने सीजेआई से माफी मांगकर गलती की। उन्होंने प्रस्ताव दिया है कि सिब्बल और कौल के खिलाफ एक्शन लिया जाए। उनका कहना है कि माफी से पहले एग्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्यों से दोनों को सलाह मशविरा करना था। 6 मार्च को हुई SCBA की एग्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक में 184 सदस्यों ने विकास सिंह के पक्ष में खुद को मजबूती से खड़ा दिखाया। इसमें फैसला लिया गया कि 16 मार्च को जनरल बाडी की मीटिंग बुलाई जाए जिसमें तीन बिंदुओं पर विचार हो।

वकीलों के चैंबर के लिए जमीन आवंटन से संबंधित एक मामले की सुनवाई के लिए केस मेंशनिंग के दौरान चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और सुप्रीम कोर्ट बार असोसिशएन के प्रेसिडेंट विकास सिंह के बीच तीखी बहस हो गई थी। गुरुवार को चीफ जस्टिस चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली बेंच के सामने विकास सिंह ने यह मामला मेंशन किया और अर्जेंट सुनवाई की मांग की। उनका कहना था कि वह पिछले छह महीने से इस मामले को लिस्ट कराने के लिए हाथ पैर मार रहे हैं।

विकास सिंह का कहना था कि अप्पू घर जमीन सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की पटीशन पर सुप्रीम कोर्ट को मिला है। बार को सिर्फ एक ब्लॉक दिया गया है। वो इस मामले को लिस्ट करने के लिए लगातार वह पेश हो रहे हैं लेकिन केस लिस्ट नहीं हो रहा है। चीफ जस्टिस ने कहा कि आप जमीन की मांग इस तरह से नहीं कर सकते हैं। आप कह रहे हैं कि एक दिन हम इसी की सुनवाई करें। विकास सिंह ने तब कहा कि हम हम इसे जजों के घर पर नहीं ले जाना चाहते। इस पर चीफ जस्टिस भड़क गए। उन्होंने कहा कि चीफ जस्टिस के साथ आप इस तरह से व्यवहार नहीं कर सकते हैं। हमें आप चेतावनी न दें। चीफ जस्टिस ने कहा कि मिस्टर विकास सिंह आप इस तरह से आपनी आवाज ऊंची न करें। वो उनकी धमकी से डरने वाले नहीं हैं।

जब CJI चंद्रचूड़ से होड़ में तीन पायदान पीछे रह गए थे अभिषेक मनु सिंघवी

कपिल सिब्बल ने किसी दूसरे मामले में पेशी के दौरान सुप्रीम कोर्ट में कहा कि सुबह जो कुछ भी हुआ उसके लिए उन्हें खेद है। उन्होंने कहा कि बार को मर्यादा की सीमाओं का उल्लंघन नहीं करना चाहिए। सिब्बल के साथ-साथ सीनियर एडवोकेट नीरज किशन कौल ने भी इस मामले में खेद व्यक्त किया। सिब्बल ने कहा कि सुबह जो भी हुआ उसके लिए हमे खेद है और हम आपसे माफी चाहते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments