सर्दियों में मूली है कैसे फायदेमंद

 

सर्दियों का मौसम आ चूका है तो ऐसे में हमें अपने स्वास्थ का भी खास ध्यान  रखना पड़ता है जैसे अपने खाने पीने से ले कर अपने शरीर का भी  तो ऐसे में मूली खाना हमारे लिए कितने फायदेमंद है ये भी जानते  है वैसे तो हर फल हर सब्ज़ी के अपने अलग अलग फायदे है लेकिन मूली सलाद हो या फिर सब्ज़ी , मूली का प्रयोग  ठंड  के दिनों में हर घर में किया जाता है ।  इस बार ठंड  में आप भी मूली का भरपूर सेवन कीजिये क्योंकि यह सेहत और खूबसूरती दोनों के लिए गुड़कारी  है

मूली आपकी भूख को बढ़ाती है और आपके पाचन तंत्र को बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित करती है। गैस की परेशानी में खाली पेट मूली के टुकड़ो का सेवन फायदेमंद होता हैमोटापे के मरीजों के लिए मूली लाभकारी है। इसके लिए मूली के रस में नींबू और सेंधा नमक मिलाकर पिएं। इसके सेवन से धीरे-धीरे मोटापा कम होने लगता है। दमा के मरीजों के लिए भी मूली के रस का काढ़ा पीना बहुत फायदेमंद होता है।

 

रक्तसंचार को नियंत्रित करने के मामले में भी मूली पीछे नहीं है। यह कोलेस्ट्रॉल भी कम करती है और ब्लडप्रेशर भी नियंत्रित करती है। डाइबिटीज के मरीजों के लिए मूली बेहतरीन दवा है। कैल्श‍ियम की भरपूर मात्रा होने से मूली आपकी हड्ड‍ियों को मजबूत करने में सहायक है। इसे खाने से जोड़ों में दर्द से भी राहत मिलती है और सूजन से भी। त्वचा को बेदाग, नर्म और मुलायम बनाने के लिए मूली के पत्तों का रस त्वचा पर लगाएं। इसके अलावा इसका पेस्ट बनाकर भी लगा सकते हैं। यह रूखी और खुश्क त्वचा से निजात दिलाएगा और त्वचा को बेदाग बनाएगा।  लगातार हिचकी आने से परेशान हैं तो मूली के पत्ते आपकी मदद कर सकते हैं। मूली के मुलायम पत्तों का चबाकर चूसने से हिचकी आना तुरंत बंद हो जाएगा। इतना ही नहीं मुं‍ह की दुर्गंध से भी छुटकारा मिलेगा।

 

प्रतिदिन खाने के साथ मूली का प्रयोग करने से लिवर और किडनी स्वस्थ रहते हैं और मजबूत होते हैं। कब्ज या बवासीर की परेशानी में भी मूली बेहद कारगर उपाय है। पेट संबंधी हर समस्या का हल मूली के पास है। अगर आपको नींद नहीं आती, तो मूली खाना आपके लिए बेहद जरूरी है। यह न केवल नींद न आने की समस्या से छुटकारा दिलाएगी बल्कि नींद लेने के लिए प्रेरित करेगी। शारीरिक थकान या दर्द होने पर मूली खाना या इसका रस पीना फायदेमंद है। अगर गले में दर्द या सूजन हो तो मूली के रस में सेंधा नमक मिलाकर गरम करें और इस गुनगुने पानी से गरारे करें। इससे गले की सिकाई होगी और सूजन दूर होगी।

 

मोटापे के मरीजों के लिए मूली लाभकारी है। इसके लिए मूली के रस में नींबू और सेंधा नमक मिलाकर पिएं। इसके सेवन से धीरे-धीरे मोटापा कम होने लगता है। दमा के मरीजों के लिए भी मूली के रस का काढ़ा पीना बहुत फायदेमंद होता है। गुर्दे संबंधी परेशानियों के लिए मूली का रस और मूली दोनों ही रामबाण उपाय है। मूली के रस में सेंधा नमक मिलाकर नियमित रूप से पीने पर गुर्दे साफ होते हैं और गुर्दे की पथरी भी समाप्त हो जाती है। दातों की समस्या या पीलापन खत्म करना हो तो मूली के छोटे-छोटे

 

 

Comments are closed.