Sunday, June 23, 2024
Homeअन्यfirozabad news : राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस परसो : करीब 12 लाख...

firozabad news : राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस परसो : करीब 12 लाख बच्चों को खिलाई जाएगी एल्बेंडाजोल

फिरोजाबाद । जनपद में 10 फरवरी को मनाए जाने वाले राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के अंतर्गत एक से 19 वर्ष तक के बच्चों और किशोरों को पेट के कीड़े निकालने की दवा (एल्बेंडाजोल) खिलाई जाएगी।
सीएमओ डॉ नरेंद्र सिंह ने बताया के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा जारी निर्देशों के बाद जनपद में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। उन्होंने बताया कि जनपद में करीब 12.9 लाख बच्चों तथा किशोरों को दवा खिलाने का लक्ष्य रखा गया है। एल्बेंडाजोल दवा 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों एवं किशोरों को साल में दो बार खिलाई जाती है। इससे पहले यह दवा जनपद में बच्चों और किशोरों को 20 जुलाई 2022 को खिलाई गई थी।
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के नोडल अधिकारी डॉ. अशोक ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस को लेकर आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर ड्यूलिस्ट तैयार करेंगी। दवा की उपलब्धता को लेकर विशेष ध्यान दिया जाएगा ताकि दवा के सेवन से कोई बच्चा छूट नहीं पाए।
डॉ. अशोक ने कहा कि पेट के कीड़े निकालने की दवा बच्चों एवं किशोरों को खाली पेट नहीं खिलाई जाती, इसलिए अभिभावकों को जानकारी दी गई है कि 10 फरवरी (राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस) को बच्चों को खाना खिला कर ही स्कूल भेजें। साथ ही जो बच्चे बीमार हैं उनको भी दवा का सेवन नहीं कराया जाएगा।
डीसीपीएम रवि कुमार ने बताया कि आंगनबाड़ी केंद्रों पर पंजीकृत 1 से 5 वर्ष तक के बच्चों और 6 से 19 वर्ष तक के स्कूल ना जाने वाले बच्चों और श्रमिक, ईट भट्टों पर कार्य करने वाले श्रमिकों, घुमंतू जाति के बच्चों को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से एल्बेंडाजोल की गोली खिलाई जाएगी।
टीएसयू के प्रतिनिधि ध्रुव शर्मा ने बताया कि 1 से 2 वर्ष तक के बच्चों को आधी गोली, 2 से 19 वर्ष तक के बच्चों एवं किशोरों को पूरी गोली खिलाई जाती है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के मौके पर जो बच्चे किसी कारण से दवा के सेवन से वंचित रह जाते हैं उन्हें 13 से 15 फरवरी तक माप अप राउंड आयोजित कर एल्बेंडाजोल दवा खिलाई जाएगी।
स्कूलों में शिक्षकों की देखरेख, आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा जुवेनाइल होम में अधीक्षक की देखरेख में बच्चों को दवा का सेवन कराया जाएगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments