Sunday, July 21, 2024
Homeअन्यट्यूब बंद होने के बावज़ुद, आयुर्वेद से मां बनना हुआ सम्भव- डॉ...

ट्यूब बंद होने के बावज़ुद, आयुर्वेद से मां बनना हुआ सम्भव- डॉ चंचल शर्मा

ब्यूरो, दिल्ली दर्पण


ट्यूबल ब्लॉकेज महिला बांझपन के सबसे आम कारणों में से एक है। फैलोपियन ट्यूब दो पतली ट्यूब होती हैं, जो गर्भाशय के प्रत्येक तरफ एक होती हैं, जो परिपक्व अंडे को अंडाशय से गर्भाशय तक ले जाने में मदद करती हैं। जब कोई रुकावट अंडे को ट्यूब से नीचे जाने से रोकती है, तो महिला के पास एक अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब होती है। यह एक या दोनों तरफ हो सकता है। इसे ट्यूबल फैक्टर इनफर्टिलिटी के रूप में भी जाना जाता है और 40% बांझ महिलाओं में बांझपन का कारण है।


हर महीने, जब ओव्यूलेशन होता है, तो अंडाशय में से एक से एक अंडा निकलता है। अंडा अंडाशय से, ट्यूबों के माध्यम से, और गर्भाशय में जाता है। अंडे को प्राप्त करने के लिए शुक्राणु को गर्भाशय ग्रीवा से, गर्भाशय के माध्यम से और फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से अपना रास्ता तैरने की आवश्यकता होती है। निषेचन आमतौर पर तब होता है जब अंडा ट्यूब के माध्यम से यात्रा कर रहा होता है। यदि एक या दोनों फैलोपियन ट्यूब अवरुद्ध हैं, तो अंडा गर्भाशय तक नहीं पहुंच सकता है, और शुक्राणु अंडे तक नहीं पहुंच सकता है, जिससे निषेचन और गर्भावस्था को रोका जा सकता है।
यह भी संभव है कि ट्यूब पूरी तरह से अवरुद्ध न हो, लेकिन केवल आंशिक रूप से। यह एक ट्यूबल गर्भावस्था या एक्टोपिक गर्भावस्था के जोखिम को बढ़ा सकता है। यदि केवल एक फैलोपियन ट्यूब अवरुद्ध है, लेकिन दूसरी स्पष्ट है, तब भी गर्भावस्था प्राप्त करना संभव हो सकता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि अंडाशय कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं, और यह भी कि पहली बार में अवरुद्ध ट्यूब का कारण क्या है।

यह भी पढ़ेंकर्नाटक में बीजेपी सरकार की दुसरी वर्षगांठ पर मुख्यमंत्री येदियुरप्पा का इस्तीफा

यदि दोनों नलियों में अवरोध हो तो स्वाभाविक रूप से गर्भवती होना असंभव हो सकता है। आयुर्वेद में फैलोपियन ट्यूब के बंद होने के संबंध में कोई प्रत्यक्ष संदर्भ उपलब्ध नहीं है। आशा आयुर्वेदा की निःसंतानता विशेषज्ञ डॉ चंचल शर्मा फैलोपियन ट्यूब की तुलना पित्तज योनि व्यापत की जटिलता से कर करती हैं। अधिकांश जटिल स्थितियों के लिए आधुनिक उपचार की समफला दर न के बराबर अर्थात 15-20 प्रतिशत है, आयुर्वेदिक उपचार में 95 प्रतिशत पूर्ण आशा है। ट्यूबल ब्लॉकेज बांझपन का एक प्रमुख कारण है। आयुर्वेदिक चिकित्सा ने वर्तमान में सफलता के के लिए उत्साहजनक परिणाम दिया है।

बंद ट्यूब खोलने का आयुर्वेदिक उपचार –
आयुर्वेद के अनुुसार ट्यूबल ब्लॉकेज को वात प्रधान त्रिदोषज स्थिति के रूप में माना जाता है, जबकि वात दोष (कसना) का कारण बनता है, कफ दोष (सूजन) को प्रेरित करता है, जबकि पित्त दोष (सूजन) का कारण बनता है। फैलोपियन ट्यूब की रुकावट को दूर करने में प्रभावी मानी जाने वाली आयुर्वेदिक दवा अधिक विवरण में त्रिदोषघ्न गुण मुख्य रूप से वात-कफ शामक (वात-कफ को कम करने वाले) होने चाहिए।

ट्यूबल ब्लॉकेज को दूर करने के लिए आयुर्वेद की पंचकर्म चिकित्सा उत्तर बस्ती मे यवक्षरा तैला का चयन किया किया जाता है। यवक्षरा तेल सामग्री यवक्षरा तेल में बहुत सारे औषधि गुण होते है जो ट्यूब की बाधा को खोलने में सहायता करते है। यवक्षरा को गर्भप्रदा (प्रजनन क्षमता पैदा करने वाला) माना जाता है और यह अर्तवनशा (अमेनोरिया) में प्रभावी है और आंतरिक प्रजनन भाग के लाभकारी है। स्त्री रोग और कर्ण रोगाधिकार आयुर्वेद में उल्लेखित क्षार तेल अंतर्गर्भाशयी ट्यूबल रुकावट की बाधा को दूर करने के लिए प्रयोग में लाया जाता है।

यह जानकारी आशा आयुर्वेदा की निःसंतानता विशेषज्ञ डॉ चंचल शर्मा से खासबातचीत के दौरान प्राप्त हुई है। यदि आप या फिर आपके कोई रिस्सेदार ट्युबल ब्लॉकेज की परेशानी के कारण अभी तक माँ बनने के सुख से दूर है तो आशा आयुर्वेदा में संपर्क करें।

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे ।

आप हमें  Twitter , Facebook , और Instagram पर भी फॉलो कर सकते है।  

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments