शुरू हुआ कन्याधन को बचाने का कार्यक्रम हरियाणा में

प्र्रधानमंत्री ने की थी अगुवाई, मुख्यमंत्री ने दिया एजेंडा और बाबाओ ने थामी कमान
अरूण मित्तल
देश और प्रदेश की बालाओं को बोझ न समझें, हर बाला में देवी की प्रतिमा और हर बच्चे में राम का स्वरूप विद्यमान है। आवश्यकता केवल अपनी प्राचीन सामाजिक परम्पराओं को पहचान कर इन गुणों को आगे लाने की है। ये उद्गार हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पानीपत जिले के एक स्थानीय ऐतिहासिक देवी मंदिर के परिसर में स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज द्वारा की जा रही श्रीमद्भागवत कथा में सम्मलित होने के अवसर पर सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। इस कार्यक्रम का आयोजन ज्ञानेश्वर समन्वय समाज कल्याण सेवा समिति के सौजन्य से किया गया था।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता का मुख्य केन्द्र बिन्दु सेवा में निहित है तभी वह सत्ता राम राज्य कहलाने की हकदार है। यदि सेवा सत्ता के लिए की जाए तो वह रावण राज में बदलते देर नहीं लगती। इसलिए हरियाणा सरकार ने अपने प्रदेश तथा देश की संस्कृति को आगे बढाते हुए आदर्श गांव स्थापित करने का निर्णय लिया है। जिसमें सांसद, विधायक, सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक संस्थाओं सहित साम्र्थयवान व्यक्तियों सहित सभी का सहयोग अपेक्षित है। इस प्रक्रिया से प्रदेश का हर गांव-आदर्श गांव बनने में देर नहीं लगेगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि जन सहभागिता प्रगति का मूल मंत्र है।
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के नागरिकों की तुलना मर्यादा पुरूषोंत्तम राम के साथ करते हुए कहा कि यहां के नागरिक राम की तरह मर्यादा और संयम से बंधे हैं। हमारे लिए यहां की माटी चंदन के समान है। उन्होंने राम और लक्ष्मण के संवाद का उदाहरण देते हुए कहा कि हमें अपनी जन्मभूमि स्वर्ग के समान समझनी चाहिए। जिसमें हर प्रकार की व्यवस्था ठीक तरह से हो। जबकि दूसरी धरती चाहे लंका की तरह सोने की बनी हो, स्वीकार्य नहीं होनी चाहिए। हमारी सरकार ने मनुष्य के जन्म से लेकर रोटी, कपड़ा और मकान यहां तक की उसकी शिक्षा को भी उच्चता तक ले जाने के प्रबंध किए हैं। अपने सही विचारों से सरकार ने गऊ रक्षा, गीता और योग को महत्व देते हुए ऐसी शिक्षा देने का संकल्प उठाया है जो सभी तरह के संस्कारों से ओत प्रोत हो।
मुख्यमंत्री ने खचाखच भरे इस धार्मिक मंच से कन्या भू्रण हत्या पर कुठाराघात करते हुए कहा कि यह हरियाणा प्रांत का परम सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बेटी बचाओ-बेटी पढाओ नामक राष्ट्रीय अभियान का आगाज भी इसी पानीपत की धरती से ही किया। हरियाणा सरकार इस सोच को घर-घर तक पहुंचाने के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने गोविंद गिरि महाराज को आश्वस्त किया कि इस दिशा में आगे बढने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। इस कार्य में संत महात्माओं का मार्गदर्शन समय-समय पर मिलना अपेक्षित है।
श्रीमद्भागवत कथा का आरम्भ करने से पूर्व गोविंद गिरि जी महाराज ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि भगवती जगदम्बा के इस पवित्र प्रांगण में मुख्यमंत्री का शुभागमन यहां के लिए विशिष्ठ महत्व रखता है। जिस तरह भारतीय परम्परा पूरे विश्व में एक उज्जवल परम्परा रही है, उसी तरह श्रेष्ठ राजनेताओं की अग्रिम पंक्ति में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का नाम आता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने दो निर्णय बहुत ही महत्वपूर्ण लिए हैं। जिसके लिए सारे हरियाणा को इसका श्रेय जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने सम्पूर्ण गऊ हत्या बंदी और भागवत गीता के अमूल प्रचार प्रसार के लिए अनूठी पहल की है। देश भर में गऊ माता का क्रन्दन अगर किसी सरकार ने सुना है तो वो हरियाणा सरकार है। उन्होंने दावा किया कि गीता एक सामप्रदायिक ग्रन्थ न होकर क र्म व अकर्म में भेद बताने वाला महान शास्त्र है, जो समूची मानवता के जीवन प्रबंधन, कुशल नेतृत्व व मानवता के अनेक दिव्य सूत्रों को समाहित किए हुए है।
स्वामी जी इस अवसर पर कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 21 जून को योग दिवस घोषित कर पूरे विश्व में हिन्दुस्तान को जगत गुरू के रूप में विख्यात किया है। जिसके लिए समस्त संत समाज उनका ऋणी रहेगा। इसके लिए वे केन्द्र और प्रदेश सरकार के आभारी हैं। उन्होंने कामना की कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में प्रदेश सरकार निरन्तर आगे बढती रहे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने स्वामी जी द्वारा रचित गीता सार का विमोचन भी किया।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने स्वामी गोविंद गिरि को पुष्प माला पहनाकर उनका अभिनंदन किया। स्वामी जी ने भी मुख्यमंत्री को पटका, तुलसी व पुष्प माला के साथ-साथ गीता व राधा-कृष्ण का चित्र भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर विधायक कृष्णलाल पंवार, महीपाल ढांडा, रविन्द्र मछरौली, असंध विधायक बख्शीश सिंह, मेयर भूपेन्द्र सिंह, समाज सेवी सुरेन्द्र रेवड़ी, भाजपा जिला अध्यक्ष गजेन्द्र सलूजा, डीसी समीर पाल सरो, एसपी राहुल शर्मा, नगर निगम आयुक्त शिव प्रसाद शर्मा, एडीसी सुजान सिंह, एसडीएम सुभाष श्योराण के अतिरिक्त समिति के प्रतिनिधि चमन लाल जिन्दल, महेन्द्र अग्रवाल, सुशील गुप्ता, मीनाक्षी गुप्ता, सुशील खन्ना, कपिल जिन्दल, कृष्ण सैनी, हरिओम तायल, राजेश सूरी, घनश्याम अग्रवाल के अतिरिक्त हजारों नगरवासियों ने श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण किया।

Comments are closed.