मुख -बधिर बनी रही पुलिस , बेगुनाह ने गंवाई जान

दिल्ली के समय पुर बादली के इलाके में जहाँ गाँव के ही कुछ लड़को ने सड़क किनारे सब्जी लगाने वालों को जम कर पीटा जिसमे एक बेगुनाह की मौत हो गयी और झगडे में ३ लोग गंभीर रूप से घायल हो गए ज पास के अम्बेडकर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है । महज सब्जी की रेहड़ी लगाने को लेकर दो गुटो में जबरदस्त झगड़ा हुआ जहाँ सब्जी की रेहड़ी लगाने वालो की गाँव के ही कुछ लोगो ने पिटाई कर दी जिसमे अनिल को अपनी जान गवानी पड़ गयी जबकि उसका इस झगडे से कोई लेना देना भी नहीं था।

दिल्ली के इस क्षेत्र में गाँव वालो ने पुलिस या एम.सी. डी की मदद के बिना ही सड़क के किनारे सब्ज़ी की रेहड़ी लगाने वालो को जबरदस्ती हटाने की कोशिश की एव उनके साथ मार पीट भी की इस मार पीट में गाँव के ही रहने वाले अनिल (40) को इतनी गंभीर चोटे आई की उसे रोहिणी के डॉ आंबेडकर हॉस्पिटल ले जाया गया जहा डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया मृतक के परिजनों ने मौत के बाद रोड पर जम कर हंगामा किया और विरोध प्रदर्शन किया|

वही मृतक का परिवार इस घटना से सदमे में है और परिजनों का कहना न तो वह वंहा सब्ज़ी की रेहड़ी लगता था और न ही उसका इस झगडे से कोई लेना देना था तो क्यों जनता ने उसको अपने गुस्से का शिकार बनाया उनका यह आरोप भी है की जिस समय यह झगड़ा हुआ उस वक़्त पुलिस कर्मी भी वहा मौजूद था पर हमलावरों ने उसे भी धमका दिया जिसके बाद पुलिस कर्मी मुखदर्शन बन सब देखता रहा। और उसने न तो कोई मदद की और न ही किसी को उसकी मदद करने के लिए बुलया क्या हमारी दिल्ली पुलिस ऐसे ही सोती रहेग़ी और दिल्ली में ये वारदाते कभी काम नहीं होंगी। और पुलिस ने अभी तक कोई कार्यवाही भी नहीं की है|

इस गांव में यह पहली घटना नहीं है जिसमे लोगो का ये रूप सामने आया है लेकिन इस घटना के बाद ये तो साफ़ हो गया है की डेल्ही के हालत बद से बतर होते जा रहे है फिलहाल पुलिस इस मामले की तफ्तीश कर रही है|

Comments are closed.