पाइप से तेल चोरी कर एक घंटे में सवा सौ करोड़ की कमाई

आईओसी की बरौनी पाइप लाइन को काटकर तेल चुराने वाले पकड़े गए

-पुलिस ने सरगना और उसके दो साथियों को दबोचा, टैंकर, पेट्रोल चोरी करने के उपकरण बरामद

एक घंटे में सवा सौ करोड़ रुपए की काली कमाई. यह सुनकर आप चौक गए होंगे, लेकिन यह सच है कि नरवल में एक नेशनल गैंग आईओसी की बरौनी पाइप लाइन को काटकर हजारों लीटर तेल पार चुका है. जिसकी कीमत सवा सौ करोड़ रुपए है. आईजी जोन आशुतोष पाण्डेय ने शुक्रवार को इसका पर्दाफाश कर गैंग के सरगना और उसकी साथी को दबोच लिया. पुलिस ने उसके कब्जे से टैंकर, तेल चोरी करने के उपकरण समेत अन्य सामान बरामद भी कर लिया है. अब पुलिस उसके साथियों की तलाश में दबिश दे रही है.

आईओसी के इम्प्लाई का बेटा है गैंग का सरगना

शहर के महाराजपुर, नरवल, सरसौल समेत कई इलाकों में इंडियन आयल की पाइप लाइन बिछी है. जिससे कई दिनों से पेट्रोल चुराया जा रहा था. आईओसी के अधिकारियों को इसका पता चला तो उनके होश उड़ गए. उन्होंने थाने में शिकायत की, लेकिन उनको उचित रिस्पांस नहीं मिला. जिस पर उन्होंने आईजी से शिकायत की, तो उन्होंने एक स्पेशल टीम को लगा दिया. टीम को गुरुवार को शाम को मुखबिर से सूचना मिली कि नरवल मोड़ के पास कुछ लोग जमीन खोदकर पाइप लाइन काट रहे हैं. टीम ने घेराबन्दी की, लेकिन उनको भनक लग गई. वो पुलिस को देखकर भागने लगे, लेकिन आईजी की टीम ने चन्दौली के सद्दाम हुसैन, मुर्तजा और मजीद को पकड़ लिया. पूछताछ में पता चला कि सद्दाम गैंग का सरगना है और उसके पिता इस्तखार आईओसी के इम्प्लाई है. उसने बताया कि उसे पिता के जरिए ही पता चला था कि बरौनी पाइप लाइन कहां-कहां से गुजरती है.

दो तरफा मुनाफा कमा रहा था सद्दाम इतना शातिर था कि उसने आईओसी अधिकारियों और पुलिस से बचने के लिए पूरी प्लानिंग की थी. उसने पिता और रिश्तेदारों की मदद से आईओसी में टैंकर ठेके में लगा दिए थे. जिससे उसकी कमाई होती थी. साथ ही वो चोरी के पेट्रोल को भी इन्हीं टैंकर में भरकर सप्लाई करता था. इससे उसको दोहरा फायदा हो रहा था. वो किसी पर भरोसा नहीं करता था. इसलिए उसने गैंग में रिश्तेदारों को शामिल किया है. उसने रिश्तेदारों की भी गाडि़यां आईओसी में ठेके में लगा दी है.

एक बूंद भी पेट्रोल बाहर नहीं गिरता था..

यह गैंग इतना एक्सपर्ट है कि इसके सदस्य एक घंटे में ही हजारों लीटर तेल पार कर देते हैं. वे एक घंटे में पाइप को काट कर चार टैंकर में पेट्रोल भरते है. जिसमें एक टैंकर की क्षमता ख्0 हजार लीटर की होती है. ये पाइप को काटने के लिए हरियाणा और गुजरात से आपरेटर को बुलाते थे. आपरेटर पहले पाइप को काटकर होल करता है और फिर उसमें क्लैप के जरिए दूसरा पाइप फिट कर देते है. जिसके जरिए पेट्रोल टैंकर में भर जाता है. जिसके बाद वे दोबारा पाइप को बांधकर जमीन को मिट्टी से पाट देते है. इस दौरान एक भी बूंद पेट्रोल बाहर नहीं गिरता है. वे इतनी सफाई से काम करते है कि किसी को पता नहीं चलता कि वहां पर जमीन को खोदकर पाइप से पेट्रोल निकाला गया.

हर बार जगह बदल देते थे

आईओसी अधिकारियों को भनक न लगे. इसके लिए यह गैंग जगह बदल-बदलकर तेल चोरी करता था. यह गैंग बिहार, गाजीपुर, चंदौली, इलाहाबाद फतेहपुर में भी पाइप लाइन को काटकर पेट्रोल पार कर चुका है, लेकिन वे अभी तक पकडे़ नहीं गए.

कस्टडी रिमाण्ड और रासुका की तैयारी

आईजी आशुतोष पाण्डेय ने बताया कि सद्दाम और उसके साथी को पूछताछ के लिए कस्टडी रिमाण्ड में लिया जाएगा. इन पर रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी. पुलिस पूछताछ कर उसके साथियों का पता करेगी. साथ ही सद्दाम की संपत्ति का भी पता लगाया जा रहा है, ताकि उसे जब्त करने की कार्रवाई भी की जा सकें.

ये है शक के घेरे में

यह गैंग पेट्रोल चोरी करने के बाद उसे पेट्रोल पम्प में बेचते है. वे आधे रेट में पेट्रोल पम्प में सारा माल खपा देते है. पुलिस पूछताछ में सद्दाम ने कई पेट्रोल पम्प मालिकों के नाम बताए है. साथ ही उसके इस गोरखधंधे में कई ट्रांसपोर्टर भी लिप्त है. वो जरूरत पड़ने पर ट्रांसपोर्टर्स के जरिए टैंकर लेता था. हालांकि उसके पास खुद ही फ्0 से फ्भ् टैंकर है. इसलिए उसे टैंकर की ज्यादा जरूरत नहीं पड़ती थी. इसके अलावा आईओसी के भी कुछ इम्प्लाई भी शक के घेरे में है. वे सद्दाम को बरौनी पाइप लाइन की जानकारी देते है. आईजी का कहना है कि जल्द ही कुछ और लोगों की गिरफ्तारी होगी.

Comments are closed.