डेढ लाख बीपीएल परिवारों की थाली से सरकार ने छीनी रोटी !

छत्तीसगढ ।विलासपुर जिले के एक लाख 50 हजार 154 बीपीएल परिवार की थाली से राज्य शासन ने रोटी छीन ली है। इन गरीबों को हर महीने मिलने वाले गेहूं की आपूर्ति पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने रोक लगा दी है।
गेहूं की जगह अब सिर्फ चावल का आवंटन किया जाएगा। अप्रैल के कोटे से ही गेहूं की कटौती कर दी गई है।प्राथमिकता वाले नीले रंग के राशन कार्डधारकों के लिए खाद्यान्न आपूर्ति को लेकर बनाए गए नए नियम के बहाने राज्य शासन ने बीपीएल परिवार से जुडे अन्त्योदय की श्रेणी में आने वाले गुलाबी रंग के राशन कार्डधारकों को करारा झटका दिया है।
मार्च तक जिले के डेढ लाख से भी ज्यादा बीपीएल परिवार को 35 किलोग्राम खाद्यान्न की आपूर्ति की जाती थी। इसमें 30 किलोग्राम चावल व 5 किलोग्राम गेहूं का आवंटन किया जाता था। यह आपूर्ति प्रति कार्ड के हिसाब से की जाती थी।

अप्रैल के आवंटन में बीपीएल परिवार के अन्त्योदय गुलाबी रंग के कार्डधारकों को अब सिर्फ चावल की आपूर्ति की जाएगी। जारी निर्देशों पर गौर करें तो गेहूं के बदले भी चावल दिया जाएगा। यानी कि अब 35 किलोग्राम चावल ही मिलेगा। गरीबों की थाली से रोटी छीनने से पहले मटर दाल को भी राज्य सरकार ने गायब कर दिया है।
संशय की स्थिति खत्म, आया निर्देश
प्राथमिकता नीले रंग के राशन कार्डधारकों को इसी महीने से प्रति यूनिट 7 किलोग्राम के हिसाब से खाद्यान्न का आवंटन किया जाना है। इस संबंध में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने निर्देश जारी कर दिए हैं। इसके तहत अब प्रति यूनिट एक किलोग्राम गेहूं व 6 किलोग्राम चावल दिया जाएगा।
निःशक्तों को मिलेगा 10 किलोग्राम चावल
जिले के 678 निःशक्त राशन कार्डधारकों को प्रति कार्ड 10 किलो चावल का आवंटन किया जाएगा। इसमें किसी तरह का कोई रद्दोबदल नहीं किया गया है।
जिले में राशन कार्डधारकों की संख्या
0 प्राथमिकता नीले रंग का राशन कार्डधारी- 3 लाख 69 हजार 119
0 अन्त्योदय गुलाबी रंग का राशन कार्डधारी-1 लाख 50 हजार 154
0 निःशक्त राशन कार्डधारी- 678
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग से जारी निर्देशों की जानकारी राशन दुकान संचालकों को दे दी गई है। अप्रैल से आवंटन जारी निर्देशों के अनुसार किया जाएगा।
जीएस पैकरा, फूड कंट्रोलर

Comments are closed.