जम्मू में हुए आतंकी हमले के विरोध में एटीएफआई ने फूंका पाकिस्तान का झंडा

पानीपत, एंटी टेरोरिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय वीरेश शांडिल्य के निर्देशों पर आज उत्तर भारत में जम्मू के कठुआ व सांबा जिले में हुए आतंकी हमलों के विरोध में फ्रंट के सदस्यों ने पाकिस्तान के झंडे फूंके। अंबाला, करनाल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, सोनीपत, गोहाना, रोहतक, झज्जर व हिसार सहित प्रदेश के सभी जिलों में पाकिस्तान के झंडे फूंक एटीएफआई ने विरोध प्रदर्शन किया। इसी कड़ी में पानीपत में भी एटीएफआई के प्रदेश महासचिव जगमोहन माटा, उपाध्यक्ष राजू बठला, प्रदेश सचिव  मदन भारद्वाज व जिलाध्यक्ष विकास ग्रोवर के नेतृत्व में रामलाल चौक पर प्रदर्शन कर  सैकड़ों फ्रंट के सदस्यों ने पाकिस्तान के झंडे को आग के हवाले किया व भारत मां की जयघोष, पाकिस्तान मुर्दाबाद व आतंकवाद मुर्दाबाद के नारे लगाए। झंडा फूंकने से पूर्व आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के दो जवान व एक पुलिसकर्मी को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। इस अवसर पर जगमोहन माटा, राजू बठला व प्रदेश सचिव मदन भारद्वाज के साथ सोनू वधवा, आशीष शर्मा, हैप्पी मिगलानी, विपिन जुडेजा सहित भारी संख्या में फ्रंट के सदस्य मौजूद रहे। पानीपत जिलाध्यक्ष विकास ग्रोवर ने झंडा फूंकने के बाद पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि दूध मांगोगे तो खीर देंगे, कश्मीर मांगा तो चीर देंगे। फ्रंट के प्रदेश महासचिव जगमोहन माटा ने कहा कि आतंकियों का कोई जाति-धर्म नहीं होता वह सिर्फ गोली की भाषा समझते हैं केंद्र की मोदी सरकार को आतंकियों को उन्हीं की भाषा में जवाब देना होगा और भारतीय फौज को खुली छूट देते हुए आतंकियों को देखते ही गोली मारने के आदेश देने चाहिए क्योंकि यह पहला मौका नहीं है आतंकी इससे पहले भी कई बार आर्मी कैंपों व पुलिस चौकियों-थानों पर हमला करते रहे हैं। प्रदेश सचिव मदन भारद्वाज ने कहा कि आतंकवादियों के साथ कोई नरमी नहीं बरती जानी चाहिए क्योंकि इनका उद्देश्य देश की शांति भंग करना व देश में धर्म और मजहब के नाम पर दंगे करवाना, बेगुनाहों को मौत के घाट उतारना होता है। छतेरा ने कहा केंद्र सरकार को आतंकवाद के खिलाफ कठोर फैसले लेने होंगे और इसके लिए देश की तमाम राजनीतिक पार्टियों को सत्तापक्ष के साथ एक मंच पर आना होगा क्योंकि देश से बड़ा कोई भी नहीं।
एटीएफआई के पानीपत के जिलाध्यक्ष विकास ग्रोवर ने कहा कि भारत सरकार को पाकिस्तान के साथ भी तमाम रिश्ते खत्म कर देने चाहिए क्योंकि यह बात भी जग जाहिर है कि पाकिस्तान भारत को कमजोर करने के लिए देशद्राही ताकतों व आतंकवाद को शरण देता रहा है और भारत के खिलाफ अक्सर पाकिस्तान जहर उगलता रहा है। एटीएफआई के उपाध्यक्ष राजू बठला ने कहा कि अब समय आ गया है कि केंद्र सरकार आतंकियों के आका पाकिस्तान को इंदिरा गांधी की तरह ही नाको चने चबवा दे और मोदी को भी देश की सवा सौ करोड़ जनता की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए पाकिस्तान को उसकी औकात याद दिला देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कठुआ व सांभा में हुए हमलों में शहीद हुए जवानों को एटीएफआई ने श्रद्धांजलि दी व केंद्र सरकार से मांग की कि वह शहीद जवानों व सांभा हमले में मारे गए एक सिविलयन को भी उचित मुआवजा व अन्य सहायता प्रदान करे।

Comments are closed.