गुजरात के इस गांव में हैं 1,000 करोड़ रुपये

वडोदरा  एनआरआई यानी अप्रवासी भारतीयों का नाम सुनते ही सबसे पहले जो बात जेहन में आती है वह है-पैसा। एनआरआई विदेशों में पैसे तो कमाते हैं लेकिन इस कमाई को वह इंडिया लाना नहीं भूलते हैं। देश में सबसे ज्यादा एनआरआई डिपॉजिट केरल से आता है जोकि कुल 90,000 करोड़ रुपये है। लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि गुजरात के छोटे से गांव में 1,000 करोड़ रुपये का एनआरआई डिपॉजिट है। गुजरात के आनंद जिले का धर्मज गांव इस देश का सबसे अमीर गांव है। गांव की आबादी 11,333 है और यहां 13 बैंक हैं। पिछले कई दशकों से गांव के कई लोग विदेशों में जाकर जॉब या बिजनस कर रहें हैं। यहां के सारे एनआरआई, गांव के बैंकों और पोस्ट ऑफिसों में पैसे जमा करते हैं। इस तरह धर्मज देश का सबसे अमीर गांव बन गया है। सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के डेप्युटी जीएम (वडोदरा डिविजन) आर.एन.हिरवे का कहना है कि इस गांव के एनआरआई इंडिया के बैंकों में पैसा जमा करना ज्यादा पसंद करते हैं। इस तरह गांव के बैंकों में 1,000 करोड़ रुपये से भी ज्यादा पैसे इकट्ठे हो गए हैं। धर्मज गांव न सिर्फ गुजरात का बल्कि देश का सबसे ज्यादा साक्षर और धनी गांव बन गया है।  गांव के लगभग 3,000 पटिदार परिवार राजाओं की तरह जिंदगी जीते हैं और शानदार कारों में चलते हैं। यहां लगभग हर परिवार में एक सदस्य ऐसा है जो विदेश से पैसे कमाकर गांव भेजता है। गांव के 1,700 परिवारों के सदस्य ब्रिटेन में हैं जबकि 300 के अमेरिका में, 160 के न्यू जीलैंड में, 200 के कनाडा में और 60 परिवारों के सदस्य ऑस्ट्रेलिया में हैं। कुल मिलाकर यहां 3,120 परिवार विदेश में रहते हैं।

Comments are closed.