अमेरिकी महिला से पहाडगंज के होटल में दुष्कर्म

नई दिल्ली। पहाडगंज के होटल में 38 साल की अमेरिकी महिला के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। यह घटना 14 अप्रैल, 2013 की है। इस दौरान उन्होंने न तो दिल्ली पुलिस से शिकायत की थी और न ही अमेरिकी दूतावास से। अमेरिका में रह रहे घनिष्ठ मित्र को आपबीती बताने पर उन्होंने महिला को वापस अमेरिका लौट आने का सुझाव दिया, तब वह लौट गई थी।
कुछ समय बाद फिर भारत आईं और आरोपी के वाराणसी में होने से वहां के थाने में मुकदमा दर्ज कराने की कोशिश की, लेकिन जब उनकी नहीं सुनी गई तब दिल्ली पुलिस व दिल्ली महिला आयोग में शिकायत की। पुलिस आयुक्त भीमसेन से मिलने के बाद उनके निर्देश पर बुधवार को पहाडगंज थाने में आरोपी लेनिन रघुराम के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कर लिया गया।
पुलिस के मुताबिक, महिला शादीशुदा है। वह स्टूडेंट वीजा पर वर्ष 2000 से भारत आती-जाती थी। 2013 में जब उन्होंने अमेरिका में रहकर ही ऑनलाइन लेनिन रघुराम की संस्था को पढा तो काफी प्रभावित हुई। लेनिन ने वाराणसी में दलित, मुस्लिम व लाचार महिलाओं के वेलफेयर के लिए संस्था बना रखा है। संस्था के एजेंडे से प्रभावित होकर महिला ने फोन पर लेनिन से बात करनी शुरू कर दी। 2013 में उन्होंने संस्था को 200 डॉलर की आर्थिक मदद भी दी।
13 अप्रैल, 2013 को लेनिन के बुलाने पर महिला भारत आ गई। आईजीआई एयरपोर्ट पर वह खुद आया। उसने महिला के ठहरने के लिए पहाडगंज के होटल में कमरा बुक करा दिया था। होटल पहुंचकर दोनों साथ में शराब पी और खाना खाया। महिला जब अपने कमरे में सो गई तब लेनिन ने दुष्कर्म किया और वारदात के बाद होटल से गायब हो गया।
नींद खुलने पर उन्हें दुष्कर्म किए जाने का एहसास हुआ तब उन्होंने अमेरिका में रह रहे अपने दोस्त को आपबीती बताई। दोस्त के सुझाव देने पर वह लौट गई। कुछ महीने बाद वह लेनिन को खोजने के लिए वाराणसी गई, लेकिन वह नहीं मिला। इस दौरान एक महिला से मुलाकात हुई, उसे भी लेनिन ने धोखा देकर यौन शोषण किया था।

 

Comments are closed.