Monday, April 15, 2024
Homeअन्यRahul UK Remarks : उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ का राहुल गांधी को...

Rahul UK Remarks : उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ का राहुल गांधी को संदेश, बोले- विदेश में न बिगाड़ें देश की छवि

 उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने भारत और भारतीय संस्थानों की छवि को नुकसान पहुंचाने वाली बातों पर अप्रसन्नता जाहिर की। उन्होंने कहा कि हमारे बीच से कोई विदेश में जाकर देश को नुकसान पहुंचाने वाली बातें करता है तो देशवासियों की भावनाएं आहत होती हैं।

नई दिल्ली । उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने भारत की छवि पर चर्चा करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी को भविष्य के लिए संदेश दिया है। उप राष्ट्रपति ने कहा कि विदेश में जाकर भारत की छवि को खराब करने वाली बातें नहीं होनी चाहिए। स्सा हैं भगवान राम”

धनखड़ ने भगवान राम का भी उल्लेख किया और कहा कि उनको लेकर कोई कल्पना नहीं है, वह वास्तव में मनुष्य थे और उन्होंने जो कार्य किए उनके स्पष्ट साक्ष्य हैं। राम हमारी सभ्यता का हिस्सा हैं। उनके जीवन से हमें सीख लेनी चाहिए। उप राष्ट्रपति ने ये बातें प्रख्यात समाज सुधारक स्वामी दयानंद सरस्वती की जयंती पर डाक टिकट जारी करते हुए कही हैं।

राहुल गांधी ने मार्च में लंदन जाकर वहां पर कई स्थानों पर भारत की छवि को खराब करने वाली बातें कही थीं। इसकी भारत में व्यापक प्रतिक्रिया हुई और संसद की कार्यवाही प्रभावित हुई थी।

शुक्रवार को उप राष्ट्रपति ने कहा कि कुछ भारतीय विदेशी संस्थाओं में जाकर भारत की प्रगति को लेकर शर्मनाक बातें कहते हैं। यह बात गलत है। इस तरह की बातों पर रोक लगनी चाहिए।

उप राष्ट्रपति ने स्वामी दयानंद सरस्वती का किया जिक्र

स्वतंत्रता और विदेशी दासता के प्रतिरोध के स्वामी दयानंद सरस्वती के कथनों का उल्लेख करते हुए उप राष्ट्रपति ने भारत और भारतीय संस्थानों की छवि को नुकसान पहुंचाने वाली बातों पर अप्रसन्नता जाहिर की। उन्होंने कहा कि हमारे बीच से कोई विदेश में जाकर देश को नुकसान पहुंचाने वाली बातें करता है, तो देशवासियों की भावनाएं आहत होती हैं। इस पर रोक लगनी चाहिए।

उप राष्ट्रपति ने कहा कि भारत और भारतीयता में विश्वास रखने वाले व्यक्ति वे कार्य करें, जिनसे देश प्रगति करे और उसकी छवि बेहतर बने। किसी को अगर कोई बात गलत लगती है, तो उसकी देश के भीतर ही चर्चा होनी चाहिए- उस पर विरोध व्यक्त होना चाहिए, न कि विदेश में जाकर भावनाएं जताई जानी चाहिए। स्वामी दयानंद की भी यही मंशा थी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments