डेंगू का कहरः बकरी का दूध बिक रहा 2000 रुपए प्रति लीटर

पत्रिका संवाददाता, नई दिल्ली। हर साल देश में डेंगू से सैकड़ों लोग मर जाते हैं और इस बार उत्तर भारत के कई राज्यों में डेंगू ने कोहराम मचा रखा है। 2015 की बात करें तो दिल्ली में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है और रोजाना अस्पतालों में लगभग 400-500 डेंगू के मरीजों का आना जारी है। सरकारी और निजी अस्पतालों में डेंगू के इलाज के अलावा लोग आयुर्वेद की तरफ भी नजरें घुमा रहे हैं। डेंगू से इलाज के लिए लोग बकरी का दूध, पपीता, पपीते और पीपल के पत्तों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
बढ़ती मांग के कारण आलम यह है कि 35-40 रुपये लीटर मिलने वाला बकरी का दूध दिल्ली में 2000 रुपये लीटर तक बिक रहा है। इसके अलावा पपीते और पीपल की पत्तियों से बनी दवाई की कीमत भी आसमान छू रही है।
आयुर्वेदिक चिकित्सकों की मानें तो डेंगू में मरीज के प्लेटलेट्स घटते हैं, जिन्हें बढ़ाने में बकरी का दूध, पपीता, पपीता और पीपल के पत्ते बहुत लाभकारी हैं। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद के हिसाब से ये उपाय डेंगू के लिए बेहतर हैं। डॉक्टरों के अनुसार, डेंगू से बचने के लिए अपने आस-पास सफाई रखें, खुद सफाई से रहें और सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें।

Comments are closed.