आम आदमी पार्टी सरकार का पहला बजट, 41,129 करोड़ रुपये का

नई दिल्ली।   दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने अपना पहला बजट पेश कर दिया है। डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार ने साल 2015-16 के लिए 41,129 करोड़ रुपये का प्रावधान रखा है। इसके साथ ही उन्होंने केंद्र पर दिल्ली के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप भी लगाया।
बजट भाषण के दौरान सिसोदिया कहा कि बजट पूरी दिल्ली की राय लेकर तैयार किया गया है। उन्होंने कहा, ‘1500 से ज्यादा लोगों ने बजट को लेकर सुझाव दिए हैं। यह स्वराज लाने की ओर पहला कदम है।’  सिसोदिया ने कहा, ‘सरकार ने फाइनैंशल इयर 2015-16 के लिए 41.129 करोड़ रुपये का प्रावधान रखा है। इसमें से 19,000 करोड़ रुपये प्लान बजट के लिए है और 22, 129 करोड़ रुपये नॉन प्लान बजट के लिए।’
इस बजट में से सरकार ने दिल्ली नगर निगम के लिए 5,908 करोड़ रुपये प्रस्तावित किए हैं। सिसोदिया ने कहा कि 4,993 करोड़ रुपये केंद्र को कर्ज वापसी के तौर पर दिए जाएंगे। बिजली और पानी की सब्सिडी के लिए बजट में 1690 करोड़ रुपये तय किए हैं। इसके अलावा सिसोदिया ने 253 करोड़ रुपये में स्वराज फंड स्थापित का ऐलान किया।
बजट पेश करने से पहले दिए भाषण में सिसोदिया ने कहा कि सरकार दिल्ली को स्किल सेंटर और देश का पहला करप्शन मुक्त राज्य बनाना चाहती है और इस दिशा में काम भी कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार बाजार में दखल देकर महंगाई पर नियंत्रण रख रही है। उन्होंने कहा कि सरकार जमाखोरी भी रोक रही है।
उन्होंने केंद्र पर दिल्ली के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप भी लगाया। सिसोदिया ने कहा, ‘दिल्ली के लोग मेहनत करके 1 लाख 30 हजार करोड़ रुपये सेल्स टैक्स और इनकम टैक्स के दौर पर केंद्र को देते हैं, मगर केंद्र बदले में जो टैक्स देती है, वह तिल के बराबर है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के साथ सौतेला व्यवहार हो रहा है।’
सिसोदिया ने कहा, ‘केंद्र को इतना ज्यादा पैसा दिल्ली की जनता देती है, मगर केंद्र से सिर्फ 325 करोड़ रुपये की मदद मिलती है। अगर हमें 50 हजार करोड़ रुपये भी दिए जाते हैं, तो हम और ज्यादा केंद्र को कमाकर देंगे। हम खैरात नहीं मांग रहे, हम हक मांग रहे हैं।’

Comments are closed.