आने ही वाला है 4G,

आने ही वाला है 4G-
4जी इंटरनेट सर्विस इस साल तेजी के साथ देश के अलग-अलग हिस्सों में अपने पांव पसारेगी। दिल्लीवालों को भी जल्दी ही यह सर्विस मिल सकती है। क्या है 4जी और क्या हैं इसके फीचर्स व फायदे, बता रहे हैं बालेन्दु शर्मा दाधीच :

प्रश्न-4जी क्या है?
उत्तर-अपने मोबाइल फोन में इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए आप क्या करते हैं? 2जी, 3जी, Edge या GPRS तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं। ये सभी वायरलेस दूरसंचार तकनीकें हैं, जिनके जरिए साउंड और डेटा का ट्रांसमिशन होता है। 1जी (ऐनालॉग) फर्स्ट जेनरेशन, 2जी (डिजिटल) सेकंड जेनरेशन और 3जी (स्पीड स्पेक्ट्रम) थर्ड जेनरेशन की दूरसंचार तकनीक है, जबकि 4जी फोर्थ जेनरेशन की।

प्रश्न-तो क्या 4जी सिर्फ इंटरनेट कनेक्टिविटी का एक तरीका है?
उत्तर-4जी एक मोबाइल दूरसंचार तकनीक है, जिसका इस्तेमाल वॉयस टेलिफोन कॉलिंग के लिए भी किया जा सकता है और मोबाइल ब्रॉडबैंड इंटरनेट ऐक्सेस के लिए भी। यह 2जी और 3जी से ज्यादा ताकतवर है। इसमें इंटरनेट की स्पीड बढ़ जाती है और कम समय में ज्यादा डेटा डाउनलोड किया जा सकता है। जब आप 4जी कनेक्शन लेंगे, तो अपने स्मार्टफोन में बातचीत से लेकर चैट और इंटरनेट सर्फिंग से लेकर वॉट्सऐप तक का इस्तेमाल उसी के जरिये करेंगे।

प्रश्न-घर में 4जी इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए क्या चाहिए? क्या कोई खास राउटर या मॉडेम लेना होगा?
उत्तर-सबसे पहले यह समझने की जरूरत है कि 4जी तकनीक मोबाइल गैजट्स में इस्तेमाल होने वाली ‘वायरलेस’ तकनीक है। यह घरों में तार बिछाकर दिए जाने वाले ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शनों (वायर्ड, एडीएसएल) से अलग है। 3जी की तरह यह उन गैजट्स के लिए है, जिनमें मोबाइल सिम कार्ड लगता है, जैसे स्मार्टफोन, टैब्लेट और डेटा कार्ड। स्मार्टफोन के जरिए फोन करने और उनमें इंटरनेट से जुड़े कामकाज करने के लिए आप 4जी का इस्तेमाल करेंगे। लैपटॉप या डेस्कटॉप कंप्यूटर में डेटा कार्ड लगाकर इंटरनेट ऐक्सेस करने के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप घर में 4जी के जरिए इंटरनेट कनेक्टिविटी चाहते हैं, तो डेटा कार्ड का इस्तेमाल करें।

प्रश्न-इसकी रफ्तार 3जी से कितनी ज्यादा है?
उत्तर-4जी आधारित कनेक्शनों में 3जी की तुलना में पांच से दस गुना तक ज्यादा इंटरनेट स्पीड मिलती है।

प्रश्न-इस बढ़ी हुई इंटरनेट स्पीड का क्या फायदा होगा?

उत्तर- आप अपने स्मार्टफोन पर बिना रुके, बिना बफरिंग के मोबाइल टीवी देख सकेंगे।

प्रश्न- वेब पेजों के लोड होने में कोई देरी नहीं होगी।

उत्तर- स्काइप और गूगल हैंगआउट्स जैसे विडियो कॉल ज्यादा सुगमता से हो सकेंगे।

प्रश्न- ऑनलाइन मल्टीप्लेयर गेम खेलना आसान हो जाएगा।

उत्तर- सॉफ्टवेयर, ऐप्स और फाइलें झटपट डाउनलोड होने लगेंगी।

प्रश्न- यूट्यूब जैसी साइटों पर बिना देरी के हाई क्वॉलिटी (फुल एचडी) विडियो देख सकेंगे।

उत्तर- फोटो और विडियो डाउनलोड और अपलोड करना तेज रफ्तार से मुमकिन होगा।

प्रश्न- विडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अच्छी विडियो क्वॉलिटी रहेगी और मेसेज पाने के लिए कोई इंतजार नहीं करना होगा।

उत्तर- इंटरनेट बेस्ड सर्विसेज, क्लाउड टूल आदि का इस्तेमाल करीब-करीब उसी रफ्तार से हो सकेगा, जैसे ये आपके अपने गैजट में मौजूद हैं। कह सकते हैं कि आपका ओवरऑल इंटरनेट एक्सपीरियंस बेहतरीन हो जाएगा।

प्रश्न-क्या 4जी का फायदा लेने के लिए अलग स्मार्टफोन खरीदना पड़ेगा?
उत्तर-अगर आपका मौजूदा फोन 4जी को सपोर्ट नहीं करता, तो आपको नया खरीदना होगा। 4जी नेटवर्क 3जी से अलग डेटा ट्रांसमिशन तकनीक का इस्तेमाल करते हैं, इसलिए सामान्य 3जी सक्षम स्मार्टफोन इस तकनीक का फायदा नहीं उठा सकते।

प्रश्न-क्या 4जी का कनेक्शन अलग से लेना होगा या हमारा मौजूदा 3जी कनेक्शन ही 4जी में कन्वर्ट हो जाएगा?
उत्तर-4जी कनेक्शन अलग से लेना होगा। हां, कुछ दूरसंचार कंपनियां अपग्रेड करने का प्लान ला सकती हैं।

प्रश्न-अगर किसी जगह पर 4जी फ्रीक्वेंसी मौजूद नहीं हुई, तो क्या हमारा 4जी बेस्ड कनेक्शन काम करना बंद कर देगा?
उत्तर-नहीं, वह 3जी या 2जी का इस्तेमाल करते हुए काम करता रहेगा।

प्रश्न-कुछ स्मार्टफोन मॉडल, जो 4जी को सपोर्ट करते हैं?
उत्तर-आइफोन 6, आइफोन 5एस, आइफोन 5सी, श्याओमी रेडमी नोट 4जी, लेनोवो ए6000, माइक्रोमैक्स यू यूरेका, माइक्रोसॉफ्ट लूमिया 638, सैमसंग गैलेक्सी नोट 3, सैमसंग गैलेक्सी एस 4, जोलो एलटी 900, एलजी जी3, एलजी जी2, एचटीसी डिजायर 820, ओपो एन3, जियोनी पायनियर 5पीएल, जियोनी वी6 एलटीई, जोलो एलटी 900, लेनोवो वाइब एक्स2, वन प्लस वन आदि।

प्रश्न-भारत में कहां पर कौन 4जी सेवाएं दे रहा है?
उत्तर-भारत में 4जी की शुरुआत 2012 में ही हो गई थी, लेकिन ढांचागत सुविधाओं के अभाव में इसका दायरा बेहद सीमित रहा। अब एयरसेल और एयरटेल ने करीब एक दर्जन शहरों में 4जी सेवा शुरू कर दी है, जबकि रिलायंस जियो इन्फोकॉम की तरफ से इसे बहुत बड़े पैमाने लॉन्च किया जा रहा है। उसकी इस साल करीब 700 शहरों तक 4जी सेवा पहुंचा देने की योजना है। इनमें दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, लखनऊ, पुणे, नागपुर, अहमदाबाद, चेन्नै और हैदराबाद भी शामिल हैं। भारती ने कोलकाता, बेंगलुरु, चंडीगढ़, अमृतसर, पटियाला, होशियारपुर, अजितगढ़, लुधियाना, जालंधर, फगवाड़ा और कपूरथला में 4जी सेवा शुरू की है। एयरसेल तेलंगाना, असम, बिहार और उड़ीसा सर्कलों में सेवा दे रही है। पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में तिकोना डिजिटल नेटवर्क की तरफ से 4जी सेवाएं मुहैया कराई जा रही हैं।

प्रस्तुति-अनिल अत्री

Comments are closed.