सुशासन दिवस पर कई कार्यक्रम होंगे: नरेन्द्र मोदी

नई दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज पार्टी सांसदों को बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन 25 दिसंबर को ‘सुशासन दिवस’ के तौर पर मनाया जाएगा और इस अवसर पर कई कार्यक्रमों के साथ ही गोष्ठियां और परिचर्चाएं आयोजित होंगी। प्रधानमंत्री ने कुछ दिन पहले वाजपेयी के जन्मदिवस को ‘सुशासन दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा की थी और कहा था कि वाजपेयी के नेतृत्व में पूर्व की राजग सरकार के कार्यों को यह सरकार आगे बढ़ायेगी।

इस दिन आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में स्वच्छ भारत अभियान को आगे बढ़ाने के साथ ही आयोजनों को भाजपा के शीर्ष नेता संबोधित करेंगे। इसके साथ ही शासन व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए लोगों से सुझाव मांगे जायेंगे और वाजपेयी के नेतृत्व वाली पूर्व राजग सरकार के छह वर्षों के कार्यकाल पर लिखित सामग्री वितरित की जायेगी। पार्टी सूत्रों ने बताया कि संसद भवन परिसर के पुस्तकालय भवन में भाजपा संसदीय दल की बैठक के दौरान कार्यक्रमों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि समाज सेवा से जुड़े कार्यों के तहत स्वास्थ्य शिविर आयोजित किये जायेंगे, रक्तदान कार्यक्रम एवं कंबल वितरण कार्यक्रम भी आयोजित होंगे।

भाजपा संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा वित्त मंत्री अरुण जेटली और संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने संसद में विपक्ष की ओर से बनाये गए गतिरोध के बारे में विचार व्यक्त किये। जेटली ने कहा कि सरकार विधेयक पास कराने को उत्सुक है और विपक्ष के एजेंडे के आगे नहीं झुकेगी। विपक्ष सत्र का समय बर्बाद करना चाहता है। बैठक के बाद संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने संवाददाताओं से कहा, ”विपक्ष कोई चर्चा नहीं करना चाहता है और वर्तमान सत्र को बर्बाद करना चाहता है।’’ उन्होंने कहा कि विपक्ष सरकार को विधायी कार्य नहीं करने देना चाहता है जिसके लिए सरकार उत्सुक है। बैठक के दौरान केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज और नितिन गडकरी सहित लगभग सभी पार्टी सांसद मौजूद थे।


Comments are closed.