साइना ने चाइना ओपन का खिताब जीता

फुजोउ
ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल ने आज यहां जापान की युवा खिलाड़ी अकेनी यामागुची को सीधे गेम में हराकर 700,000 डालर इनामी चाइना ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीता। विश्व में पांचवें नंबर की खिलाड़ी ने हैक्सिया ओलंपिक स्पोर्ट सेंटर में महिला एकल के फाइनल में 17 वर्षीय अकेनी को 42 मिनट तक चले मुकाबले में 21-12, 22-20 से हराया। यह साइना का साल का तीसरा खिताब है। उन्होंने जून में आस्ट्रेलियन सुपर सीरीज और इस साल के शुरू में सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय ग्रां प्री गोल्ड का खिताब जीता था। यह उनका कुल आठवां प्रीमियर सुपर सीरीज खिताब है। इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में छठी बार भाग ले रही साइना ने अपने अनुभव का अच्छा इस्तेमाल करते हुए चुस्ती और चपलता दिखाने वाली अकेनी की चुनौती को समाप्त किया।
दूसरे गेम में आखिरी क्षण काफी तनावपूर्ण लेकिन रोमांचक रहे। दोनों ही खिलाड़ी लंबी रैलियों में उलझी रहीं लेकिन अनुभवी साइना ने वापसी करके स्कोर 14-14 से बराबर कर दिया। साइना ने अच्छे स्ट्रोक्स लगाये लेकिन वह जापानी खिलाड़ी में कोई कमजोरी नहीं ढूंढ पायीं जिन्होंने भारतीय खिलाड़ी के हर शाट का करारा जवाब दिया। जब स्कोर 18-18 से बराबरी पर था तब साइना ने नेट शाट के कारण एक अंक हासिल किया लेकिन भारतीय खिलाड़ी का शाट इसके बाद बाहर चला गया और अगली बार वह चूक गयी। इससे अकेनी 20-19 से आगे होकर मैच प्वाइंट पर पहुंच गयीं। साइना हालांकि इसी गेम में मैच समाप्त करने के लिये प्रतिबद्ध थीं और जापानी खिलाड़ी ने भी दो शाट बाहर लगाकर उनका काम आसान कर दिया।
पहले गेम में साइना ने शुरू में ही 3-1 की बढ़त बना ली और इसे वह 8-4 तक ले गयी। उन्होंने गलत स्ट्रोक्स के कारण कुछ अंक गंवाये लेकिन इंटरवल तक भारतीय खिलाड़ी चार अंक की बढ़त पर थीं। इसके बाद साइना ने शटल पर नियंत्रण बनाये रखा और अपनी युवा प्रतिद्वंद्वी को गलतियां करने के लिये मजबूर किया जिससे वह 14-7 की मजबूत बढ़त हासिल करने में सफल रही। अकेनी ने बीच–बीच में अपना जलवा दिखाया लेकिन यह साइना की लय बिगाड़ने के लिये काफी नहीं था जो खूबसूरत नेट शाट से मैच प्वाइंट तक पहुंचीं और फिर शानदार रिटर्न से उन्होंने पहला गेम अपने नाम किया।

Comments are closed.