सचिवों के मामले पर विपक्ष का आप पर हमला

नईदिल्ली। दिल्ली में आम आदमी पार्टी द्वारा विधानसभा में इक्कीस सचिव बनाने पर सभी हैरान है।भाजपा का कहना है इतने ज्यादा सचिव दिल्ली में पहली बार बने है। बीजेपी के पार्षद गुलाब सिंह राठौर का कहना है कि पहले कुछ विधायक मंत्री बने फिर 21 सचिव बना दिए गये जो बचे है उन्हें अलग- अलग विभागों में चेयरमैन बना दिया जाएगा। कुल मिलाकर सभी विधायको को खुश करने की कोशिश में बडा मिसमनेजमेंट है ।
बीजेपी के पूर्व विधायक श्रीकृष्ण त्यागी का कहना है सब पैसे का दुरूपयोग है .. जब पहले सरकारी सचिव विभागों में होते है उन्हें अनुभव है तो दोहरे सचिवो की क्या जरूरत थी।.अब इन 21 सचिवो को ऑफिस मिलेगा। लाल बत्ती की गाडी मिलेगी।.ड्राईवर मिलेगा कुल मिलाकर कराडो रूपये हर महीने जनता के इन विधायको को खुश करने के चक्कर में बर्बाद होंगे । उन्होंने जिन्दगी में पहली बार इतने सचिव देखंे है पहले चार या पांच सचिव होते है पर यहा इतनी बडी तादाद .. सब जनता के पैसे का दुरूपयोग है ।उन्होनें कहा कि कराडो रूपये जनता के अब इन सचिवो पर खर्च होंगे साथ ही बिजली के दावे भी खोखले साबित हो रहे है । इनका कहना है कि गर्मी में यदि दो कूलर भी किसी गरीब के घर रात दिन चले तो बिजली 400 यूनिट से ज्यादा खर्च होगी और इसका लाभ गरीबो को भी नहीं मिल पायेगा ।
बीजेपी के नेता मास्टर आजाद व कांग्रेस की पार्षद व मुंडका विधानसभा से प्रत्यासी रही रीता शौकीन ने भी की आम आदमी पार्टी के इस कदम की आलोचना दिल्ली में अम आदमी पार्टी पूर्ण बहुमत से आई ।बहुमत भी रिकॉर्ड मिला। उसके बाद भी पार्टी कही न कही सभी विधायको को खुश करने के जुगत में जुटी है। आम आदमी पार्टी ने 21 विधायको को विधानसभा में सचिव बनाया तो इसपर सभी दुसरे दल हैरान है।
नगर निगम के पूर्व महापौर. मास्टर आजाद सिंह ने कहा इस परेशानिया बढेगी . काम की तरफ ध्यान नहीं है। अराजकता फैलने का डर है।.साथ ही कहा कम करने की नियत नहीं ।.. सब काम बंद है निगम के पैसे दे नहीं रहे है ।उत्तरी दिल्ली नगर निगम में हेल्थ कमेटी के चेयरमेन बीजेपी के निगम पार्षद गुलाब सिंह राठौर ने इसे पूरा मिस मनेजमेंट कहा कि दिल्ली में बडे बडे अनुभवी सरकारी अधिकारी मंत्रियों के सचिव होते है पहली बार देखा जा रहा है की विधायको को मंत्री का सचिव बनाया जा रहा है जिनका कोई अनुभव ही नहीं है .. ये सीधा जनता के पैसे का दुरूपयोग बताया उन्होंने .कहा कि अरविन्द केजरीवाल दिल्ली से भागना चाहते है और डिप्टी सीएम बना दिए उस पर भी कराडो का अतिरिक्त भार हुआ ।
कांग्रेस की पार्षद व मुंडका विधानसभा से प्रत्यासी रही रीता शौकीन ने भी की आम आदमी पार्टी के इस कदम की आलोचना की।उन्होंने इसे कल्चर बताया और ये इनके वायदे के खिलाफ है।मुंडका पूर्व विधायक रामबीर शौकीन ने भी इसे खर्चे का बढावा बताया। ..

Comments are closed.