शान-ए-पंजाब बनी पहली सुरक्षित ट्रैन

रेलवे ने यात्रिओं की सुरक्षा के लिए ट्रेनों को अपग्रेड करना शुरू कर दिया है।  इसी कड़ी में नई दिल्ली से अमृतसर के बीच चलने वाली शान-ए-पंजाब एक्सप्रेस की सभी बोगियों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

नई दिल्ली और अमृतसर के बीच चलने वाली सुपरफास्ट ट्रेन शान-ए-पंजाब देश की ऐसी पहली ट्रेन हो गई है, जिसके सभी डिब्बों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

सूत्रों के अनुसार हर डिब्बे में 4 से 6 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। बताया जा रहा है कि शान-ए-पंजाब की महिला बोगी के सीसीटीवी फुटेज की निगरानी के लिए ट्रेन के गार्ड कंपार्टमेंट में एलसीडी स्क्रीन लगाई गई है।कैमरों को इस तरह से लगाया गया है पूरी तरीके से प्राइवेसी वॉयलेशन नहीं हो। सीसीटीवी कैमरों को बोगी के सभी दरवाजों और गैलरी में लगाया गया है।

सीसीटीवी कैमरे कोच के दोनों मुख्य प्रवेश द्वारों के ऊपर लगाए गए हैं। साथ ही कोच के दोनों साइडों के आमने-सामने भी सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इन कैमरों का कंट्रोल गार्ड के कैबिन में लगाया गया है।

पूरी ट्रेन में लगभग  124 कैमरे लगाए गए हैं। इससे असामाजिक तत्वों की पहचान करने और अपराधियों पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी। बताया जा रहा है कि बुधवार को एक यात्री का मोबाइल फोन खो गया था। उसे सीसीटीवी कैमरों की मदद से खोजा गया।

जानकारी के अनुसार, रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस ट्रेन को आज हरी झंडी दिखाई। यह रेलसेवा एक दिन में करीब 448 किलोमीटर का सफर तय करेगी। सीसीटीवी कैमरे से सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि हर यात्री की निगरानी हो सकेगी इसके बाद ट्रेन के कोचों का भी ध्यान रखा जा सकेगा।

और सभी ट्रेनों में भी कमरे लगाए जाने की तैयारी ज़ोरों शोरों पर है इसमें करीब 36 लाख रुपये खर्च हुए हैं। सीसीटीवी के फुटेज को एक डिवाइस में रिकार्ड किया जाएगा, जिसकी क्षमता करीब एक माह तक की होगी।

Comments are closed.