विश्व धरोहर दिवस: शाही किले में लगेगी पुरातत्व पर आधारित प्रदर्शनी

18 मार्च से तीन दिनों तक होगा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन
बुरहानपुर। जिला मुख्यालय पर विश्व धरोहर दिवस पूर्ण उत्साह से मनाया जायेगा। इस दौरान आगामी 18 से लेकर 20 अप्रैल तक तीन दिन विविध आकर्षक कार्यक्रम आयोजित किये गये है। यह दिवस शाही किला स्थित मनाया जायेगा। जिसमें पुरातत्व पर आधारित प्रदर्शनी लगेगी। साथ ही शहजादा आसिफ प्रोडक्शन द्वारा बुरहानपुर के नायाब ऐतिहासिक स्थलों पर निर्मित फिल्म का प्रसारण किया जावेगा। इस मौके पर नगर निगम द्वारा संचालित बुरहानपुर दर्शन बस का शुभारंभ भी होगा।

यह निर्णय जिला स्तरीय पुरातत्व समिति की बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया है। कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए धरोहर दिवस की रूपरेखा पर समिति सदस्यों से विशेष चर्चा की। उन्होनें आमजन से अनुरोध किया है कि जिले से संबंधित ऐतिहासिक महत्व की पुरातत्वीय वस्तु, संसाधन, वस्त्र, अस्त्र-शस्त्र, मूर्तियां, सिक्के, पेटिंग, फोटोग्राफ्स, बागवानी आदि प्रदर्शनी में रख सकते है। यह सामग्री 31 मार्च 2015 तक जमा कर देवे। इसमें सामग्री संसाधन मालिक का नाम, पता, मोबाइल नंबर अवश्य उपलब्ध करावे। ताकि संबंधित व्यक्ति की धरोहर अथवा सामग्री वापिस की जा सके। विश्व धरोहर दिवस पर जो भी इच्छुक व्यक्ति स्वयं प्रदर्शनी में स्टॉल लगाना चाहते है। उन्हें स्टॉल नि:शुल्क प्रदत्त किया जावेगा।

महापौर श्री अनिल भोंसले ने बताया कि शासन से तीन बसे नगर निगम को प्राप्त होने वाली है। इसमें बुरहानपुर दर्शन के लिये बस चलाई जावेगी। यह बस जिले में ऐतिहासिक स्थलों के प्रमुख स्थलों पर पर्यटकों को दर्शन कराने संचालित रहेगी। पर्यटको को विशेष महत्व के धरोहरों को देखने के लिये लगभग 200 किलोमीटर यात्रा होगी। समिति सदस्य शहजादा आसिफ ने बताया कि आहूखाना, असीरगढ़, महलगुराड़ा, कुण्डी भण्डारा, शाही किला आदि अन्य स्थलों के लिये रूट तय कर दिया गया है।

कलेक्टर ने बताया कि बुरहानपुर में ऐतिहासिक स्थलों के संरक्षण और संवर्धन की दिशा में पूर्ण रूप से प्रयास किये जा रहे है। शीघ्र ही शासन से आवंटन मिलने की पूर्ण संभावना है। महापौर श्री भोंसले ने अकबरी सराय को अतिक्रमण से मुक्त किया है। सभी ने उन्हें धन्यवाद ज्ञापित किया। कलेक्टर ने सभी के सुझावों पर कहा कि वहां सुसज्जित बागवा लगाकर अकबरी सराय शहर का विशेष आकर्षण बनाया जायेगा।

बैठक में पुरातत्व संग्रहालय मेें सामग्री संकलन के लिये भी विशेष चर्चा हुई। जिसमें पुरातत्वीय कलात्मक वास्तुशिल्प की यत्र-तत्र पड़ी मूर्तिया उठाकर लायी जायेगी। इस हेतु एक निरीक्षण दल इतिहासविदो का गठित किया गया है। उक्त दल जिले का भ्रमण कर संग्रहालय में रखने के लिये सामग्री जुटायेगा। कलेक्टर ने आमजन साधारण अनुरोध करते हुए कहा है कि बुरहानपुर जिला अंतर्गत ऐतिहासिक महत्व की विविध सामग्री संग्रहालय में रखने हेतु शीघ्र जमा करा देवे। इसमें पुरातत्वीय विविध स्वरूप की वस्तुऐं, चित्र, साहित्य, वाहन, मूर्तिया, संसाधन, अस्त्र-शस्त्र, वस्त्र, मुद्रा आदि अन्य दुर्लभ चीजें या कलाकृति प्रादर्श संग्रहालय को दान कर अथवा स्वयं के नाम से रखवा सकते है। इसमें जिसकी जो वस्तु स्वयं के नाम से रखेगा। वह वस्तु उसी के नाम पर रहेगी। संग्रहालय में रखी जाने वाली तमाम सामग्री का पंजीयन होगा। जिसकी प्राप्ती भी दी जावेगी।

कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला पुरातत्व समिति श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया ने बताया कि बुरहानपुर संग्रहालय के लिये उक्त चीजें संकलित की जा रही है। जिससे संग्रहालय का उन्नयन व संवर्धन हो सकें। इस हेतु जिला पुरातत्व समिति द्वारा आम नागरिकों और इतिहासविदो से भी विशेष अनुरोध किया गया है।

Comments are closed.