राहुल को लेकर संसद के सामने हंगामा

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी जासूसी कांड मुद्दे पर आज संसद में भी हंगामा जारी है । उधर दिल्ली पुलिस के आयुक्त बी एस बस्सी ने संसद पहुंचकर गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों को और गृह राज्यमंत्री को इस बारे में पूरी जानकारी दी ।
राहुल गांधी जासूसी मामले पर सरकार की ओर से अपना पक्ष रखते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, ‘1987 से ऐसा किया जा रहा है, सुरक्षा के मामले में राजनीति न करें, सुरक्षा जांच के लिए जुटाई जाती है जानकारी । उन्होंने राहुल गांधी की जासूसी के आरोपों से इनकार करते हुए सरकार ने कहा कि यह रूटीन प्रक्रिया का हिस्सा था, प्रक्रिया बहुत पुरानी है । पूर्व प्रधानमंत्री से भी भरवाया गया था परफॉर्मा।
राहुल जासूसी मामले पर अरुण जेटली के बयान पर कांग्रेस ने असंतुष्टि जाहिर करते हुए राज्यसभा से वॉकआउट किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने इस मसले पर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि 19 वर्षों तक मैंने भी जेड –प्लस सुरक्षा ली, मेरा कोई रूटीन सिक्यॉरिटी चेक नहीं किया गया ।
दरअसल कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के कार्यालय में दिल्ली पुलिस की पूछताछ से कांग्रेस बेहद नाराज है । उसने इसे जासूसी करार दिया है और केंद्र सरकार पर हमलावर है । कांग्रेस ने इस मुद्दे को काफी गंभीर बताते हुए कहा है कि यह सिर्फ सुरक्षा समीक्षा या जासूसी का मसला नहीं है । उनका कहना है कि यह विपक्षी राजनेताओं की निजता में घुसपैठ कर भारत को पुलिस स्टेट में बदलने की कोशिश है जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। कांग्रेस का कहना है कि उसने संसद के पिछले सत्र में भी अवैध तरीके से फोन टैप का मामला उठाया था वहीं सरकार ने इससे साफ इनकार किया है और कहा है कि कांग्रेस बिना बात के इसे मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही है । तो दिल्ली पुलिस ने भी जासूसी की बात से इनकार किया है ।
राहुल का मामला संसद की विशेषाधिकार समिति के सामने भी उठा है । विशेषाधिकार समिति पहले ही दिल्ली के पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी को 18 मार्च को तलब कर चुकी है । लेकिन बस्सी आज अपने अधिकारियों के साथ संसद पहुंच गए । वहीं एसपी सांसद नरेश अग्रवाल ने आरोप लगाया है ये मामले सिर्फ राहुल गांधी बल्कि और नेताओं से भी जुड़ा है और देश में तमाम नेताओं के फोन टेप किए जा रहे हैं ।

Comments are closed.