रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाही पर वचन न जाईः वसुंधरा राजे

राजस्थान मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुन्धरा राजे ने प्रदेश के युवाओं को तोहफा देते हुए कहा है कि राज्य सरकार एक लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देगी। पिछले एक वर्ष में निजी क्षेत्रा में एक लाख 45 हजार 566 नौजवानों और सरकारी क्षेत्रा म­ करीब 20 हजार युवाओं को रोजगार दिया गया है। उन्होंने कहा कि पांच वर्ष में 15 लाख युवाओं को रोजगार के अवसर उपलध कराने का वादा हम पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि 480 करोड रुपये की ईसरदा बांध पेयजल परियोजना के लिए टेंडर इसी माह हो जाय­गे और यह समय पर पूर्ण होगी। इस परियोजना से कई जिले लाभांवित होंगे। मुख्यमंत्राी विधानसभा में बजट पर हुई बहस का जवाब दे रही थी। उन्होंने कहा कि हमारे लिए राजनीति, राजधर्म है और वोट सेवा का माध्यम है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए हमें साथ मिलकर वित्तीय अनुशासन से काम करना होगा, नही तो आने वाली पीढी हमें माफ नही करेगी। यह बजट सिर्फ बजट ही नही आने वाले वर्षा­ के लिए विकास का एक रोडमैप भी है। आने वाले सभी बजट इस बजट के लिए सपोर्टिंग डॉयूमेन्ट होंगे।
श्रीमती राजे ने कहा कि यह बजट प्रदेश की पटरी से उतरी हुई अर्थव्यवस्था को वापस ट्रैक पर लाने का प्रयास है। वित्तीय प्रबन्धन पर फोकस करते हुए इस बजट में राजस्व घाटे की जगह 556.82 करोड रुपये के राजस्व आधिय का अनुमान किया गया है। यह राज्य की सात करोड जनता की आकांक्षाओं, आशाओं और सपनों का बजट है।
मुख्यमंत्री ने बजट पर वाद-विवाद में हिस्सा लेने वाले सदस्यों के सुझावों के लिए उनका आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश को दक्षिण कोरिया, सिंगापुर या जापान जैसा विकसित बनाने के लिए सभी को अपनी सामूहिक शति को स्वाभिमानी राजस्थानी की तरह विकास, विकास और विकास में लगाना होगा।
रिफाइनरी के नाम पर धोखा
श्रीमती राजे ने पूर्ववर्ती सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने रिफाइनरी के नाम पर प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया है। इसमें राज्य द्वारा रिफाइनरी की कुल लागत से लगभग दोगुणा राशि देने के बाद भी हिस्सेदारी 26 प्रतिशत तक सीमित कर दी गई। कुशल वित्तीय प्रबन्धन की बात करने वाली पूर्ववर्ती सरकार ने 37 हजार 229 करोड रुपये की रिफाइनरी के लिए 56 हजार 400 करोड रुपये के अतिरित पानी, सडक और मात्रा 300 करोड रुपये म­ 4800 एकड भूमि देने का कमिटमेन्ट कर दिया। यह वित्तीय प्रबन्धन नही बल्कि घाटे का सौदा है। चुनावी लाभ लेने के लिए जल्दबाजी दिखाते हुए करीब 30 हजार करोड रुपये के निवेश को सिर्फ 30 घण्टे में स्वीकृत कर दिया गया। सरकार के स्तर पर किसी तरह का वित्तीय एवं आर्थिक विश्लेषण तक नहीं किया गया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक सरकार राज्य हित में संतुष्ट नही होगी, तब तक रिफाइनरी का काम शुरू नही किया जायेगा। हमने अभी रिफाइनरी की स्वीकृति के आधार को वैलिडेट करने के लिए कन्सलटेन्ट नियुक्त किया है। साथ ही एचपीसीएल और राज्य सरकार के बीच वार्ता की जा रही है।
व्यावहारिक नही फिर भी शुरू की मेट्रो
श्रीमती राजे ने कहा कि हमने भी अपने पिछले कार्यकाल में जयपुर मेट्रो के लिए विशेषज्ञों से सलाह ली थी, लेकिन उन्होंने इसे व्यावहारिक नही माना। इसके बाद भी पूर्ववर्ती सरकार ने 11,732 करोड रुपये की जयपुर मेट्रो परियोजना प्रारम्भ की। इसके प्रथम फेज के लिए केवल 11 किलोमीटर लम्बी मेट्रो रेल हेतु 3400 करोड रुपये व्यय किये जा रहे ह®। इस राशि में 110 से ज्यादा फ्लाई ओवर अथवा 5000 किलोमीटर सडक का निर्माण कराया जा सकता था, जिसका जनता को सीधा लाभ मिलता।
उन्होंने कहा कि मेट्रो परियोजना के लिए जेडीए, हाउसिंग बोर्ड, रीको से पैसा लेकर उनको कंगाल कर दिया। आगे भी मेट्रो रेल के संचालन पर प्रतिवर्ष 50 करोड रुपये खर्च करने पडेंगे। उन्होंने कहा कि पटरियां तैयार होने से पहले ही मेट्रो टेªनों की खरीद कर ली गई। काम पूरा होने के बाद इसकी खरीद होती तो नवीनतम तकनीक वाली टेªन­ खरीदी जा सकती थी। उन्होंने कहा कि पूरी सुरक्षा जांच के बाद ही मेट्रो चलाई जायेगी।
पूरे विद्युत तंत्रा को छिन्न-भिन्न कर डाला
मुख्यमंत्री ने विद्युत वितरण कम्पनियों की खस्ता वित्तीय हालत के लिए पूर्ववर्ती सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए बताया कि वर्ष 2005 से 2008 के बीच बिजली कम्पनियों के लघु अवधि ऋणों म­ 117 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी, जबकि वर्ष 2009 से 2014 के बीच यह वृद्धि 400 प्रतिशत तक पहुंच गई। साथ ही पूर्ववर्ती सरकार बिजली छीजत कम कर पाने में भी नाकाम रही। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने विद्युत वितरण निगमों की स्थिति सुधारने के लिए किये गये एमओयू पर कोई अमल नही किया। उन्होंने पूरे विद्युत तंत्रा को छिन्न-भिन्न कर दिया, जिसके चलते विद्युत कम्पनियों पर कर्ज 77 हजार करोड रुपये से भी अधिक हो गया।
रिसर्जेंट राजस्थान से बदलेगी तस्वीर
श्रीमती राजे ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में रिसर्जेंट राजस्थान का आयोजन किया था, लेकिन समय कम रहने के कारण पूरा निवेश धरातल पर नही आ सका। इस बार हम अपने कार्यकाल के दूसरे वर्ष में ही यह आयोजन कर रहे ह®। ताकि शत-प्रतिशत निवेश वास्तविक रूप से धरातल पर आये और राज्य को इसका पूरा फायदा मिले। उन्होंने कहा कि हम जल्दी ही नई खनन, पर्यटन और सूचना प्रौद्योगिकी नीति भी लायेंगे।
प्रतिपक्ष की अनुपस्थिति सुखद नही
श्रीमती राजे ने कहा कि बजट पर बहस का उत्तर देते समय प्रतिपक्ष की अनुपस्थिति सुखद नही लग रही है। यह संसदीय गरिमा और स्वस्थ लोकतंत्रा की मूल भावना के विपरीत है। म®ने वर्तमान में चल रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिए पूरे प्रयास किये। राज्य हित को ध्यान में रखते हुए पक्ष और प्रतिपक्ष को एक साथ मिलकर काम करना चाहिए।
सदन के नेता के रूप में दिखाई सहृदयता
श्रीमती राजे ने सदन के नेता के रूप में आगे बढकर प्रतिपक्ष के सदस्यों का निलम्बन वापस लेने के लिए मुख्य सचेतक को सदन में प्रस्ताव लाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि प्रतिपक्ष इसे सकारात्मक रूप में ले और गतिरोध समाप्त करने में सहयोग करें। इसी से बजट सत्रा सार्थक हो पायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सपने देखना जरूरी है। सपनों के बिना उडान नही हो सकती और उडान के बिना ऊंचाई नही छू सकते। उन्होंने कहा कि –
ताश के पत्तों से महल नही बनते, रोको नदी तो समंदर नही बनते,
देखो सपने और बढो आगे तुम, बिना सपनों के सिंकदर नही बनते।
श्रीमती राजे ने पांच वर्ष में प्रदेश के 15 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा पूरा करने का संकल्प दोहराते हुए कहा कि –
रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाही पर वचन न जाई।

Comments are closed.