दिल्ली जल बोर्ड 8000 करोड़ के घाटे में।

-पीयूष खुल्लर और ऋषभ दुआ
आम आदमी पार्टी के अंतर्गत आने वाला दिल्ली जल बोर्ड, करोड़ो के घाटे में चल रहा हैं। संजीव जैन नामक आरटीआई एक्टिविस्ट ने लगायी आरटीआई से मालुम पड़ा हैं कि साल 2016 से 2018 के बीच दिल्ली जल बोर्ड को लगभग 800 करोड़ रुपये का घाटा हुआ हैं। हालांकि जल बोर्ड ने सफाई देते हुए कहा कि ऐसा सातवें वेतन आयोग की वजह से हुआ हैं, लेकिन हैरानी की बात यह हैं कि सातवा वेतन आयोग लागू होने के बाद आर्थिक भार हटाने के लिए दिसंबर 2017 में जल बोर्ड ने 20 फीसदी का इज़ाफ़ा किया था।

दिल्ली जल बोर्ड ने दावा किया कि वो घाटे से उभरने के लिए मज़बूत कदम उठा रही हैं। दिल्ली जल बोर्ड के मुताबिक़ बजट बढ़ाने से घाटा कम नहीं किया जा सकता हैं। बोर्ड की बिजली की ख़पत काफी ज़्यादा हैं। हर महीने जल बोर्ड करीब 650 करोड़ बिजली का बिल देता हैं। ऐसे में सोलर का एक प्रोजेक्ट लाया जा रहा हैं, जिससे 200 करोड़ रुपए की बिजली बचाने का लक्ष्य तय किया गया हैं।

Comments are closed.