दिल्ली के रानी बाग़ इलाके में खुले नाले में गिरे दो बच्चे, एक लापता

दिल्ली की सड़कों में टूट फुट, नालों और सीवरों का खुला होना तो बहुत ही आम बात है।  हर दो कदम पर कही तो सड़क टूटी फूटी होती है और कही कोई सीवर पर ढक्कन नहीं होता।  आये दिन इन वजहों से  लोगों के साथ दुर्घटनाएं घटती है लेकिन फिर भी इस समस्या का कोई समाधान नहीं निकाल जाता।   
ऐसी ही एक घटना के चलते एक 5 साल का बच्चा लापता है। दिल्ली के रानी बाग़ इलाके में रोड किनारे PWD के खुले और गहरे नाले में दो बच्चे गिर गए। काफी मशक्कत के बाद स्थानीय लोगों की मदद से एक 13 साल के बच्चे को तो निकाल लिया गया है लेकिन पांच साल के बच्चे का अभी तक कोइ सुराग नहीं मिला है। फायर टेंडर और पुलिस कर्मी करीब दो घंटे से सर्च अभियान में लगें है।  
एक तरफ फायर टेंडर और पुलिस बच्चे को नाले में खोज रहे थे तो दूसरी तरफ अनस की माँ बिलख बिलख कर रो रही है। यह माँ उम्मीद छोड़ चुकी है की उसका बच्चा सकुशल निकल पाएगा या नहीं। कहने को तो फायर कर्मी दो घंटे तक बच्चे की तलाश में लगे रहे  केवल डंडों और कांटे डालकर इस नाले से बच्चे की तलाश हो रही है संसाधनों की कमी की वजह से बच्चे को ढूंढने में दिक्कत आ रही थी। इनकी पास लाइट भी नहीं थी।
सूत्रों के अनुसार बच्चे को ढूंढते वक़्त नाले का पनि तक नहीं रोका गया था। 
रानी बाग़ में मेन रोड के किनारे पटरी पर इस गहरे बरसाती नाले को यूँ तो ढका गया है लेकिन कहीं कहीं से सिल्लियां गायब है और नाला खुला पड़ा है। इसी खुले नाले में पांच साल का अनस ऐसा गिरा की कई घंटों तक की तलाश के बावजूद भी बच्चे को नहीं निकला जा सका। स्थानीय लोग इसे पीडब्लूडी की बड़ी लापरवाही तो मान ही रहे है साथ ही फायर कर्मी जिस तरह जिन संसाधनों के साथ बच्चे की खोज कर  रहे थे उसे लेकर भी नाराज है। 

Comments are closed.