जितेंदर तोमर ने लगाए प्रधानमंत्री मोदी पर गम्भीर आरोप, की डिग्री दिखाने की मांग

प्रधान मंत्री की डिग्री देखने की उत्सुकता तो अब सभी को हो रही है, आखिर क्यों प्रधानमंत्री अपनी डिग्री दिखाने में असमर्थ है ? अब मोदी जी के राज़ तो वो खुद ही जाने। लगातार कई बार मोदी जी की डिग्री दिखाने की मांग ने जैसे राजनीती में एक हल्ला सा मचा दिए। सभी लोग ये जानना चाह रहे है की आखिर देश के प्रधान मंत्री की डिग्री है कहाँ जिसे वह सबसे छुपा रहे हैं।

आम आदमी पार्टी ने प्रधान मंत्री की इसी कमज़ोरी को पकड़ लिया और उनपर धड़ा धड़ इलज़ाम बरसाने शुरू करदिए। आप पार्टी नरेंद्र मोदी की बीए की डिग्री को लेकर आक्रमक हो गई है। दिल्ली के मुख्य्मंत्री अरविन्द केजरीवाल पहले भी प्रधान मंत्री की डिग्री को फ़र्ज़ी करार दे चुकें है अब पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र तोमर ने भी इस मामले में आरटीआई दाखिल कर दिल्ली यूनिवर्सिटी से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की डिग्री संबधित जानकारियां माँगी है।

जितेंदर तोमर का कहना है कि कानून सबके लिए एक जैसा ही होना चाहिए और प्रधान मंत्री के साथ भी वैसा ही बर्ताव होना चाहिए जैसा की उनके साथ हुआ था। मोदी जी को भी सवालों के घेरे में लिया जाय और कड़ी पूछताछ की जाय। यहाँ तक की तोमर तो चाहते है की प्रधान मंत्री भी शक के बिन्ह पर उनकी ही तरह अपने पद से इस्तीफा दें। जितेन्द्र तोमर ने तो कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाने के लिए भी अपनी कमर कस ली है और हो भी क्यों न आखिर उन्होंने भी तो शक के आधार पर इस्तीफा दिया था।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की बीए की डिग्री पर सवाल क्या उठे आम आदमी पार्टी को जैसे के बड़ा हथियार मिल गया। मुख्य्मंत्री अरविंदर केजरीवाल तो प्रधान मंत्री की डिग्री को फ़र्ज़ी करार दे ही चुकें हैं। केजरीवाल का आरोप है की मोदी कभी दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़े ही नहीं है।

मुख्य्मंत्री पहले ही यूनिवर्सिटी को आगाह कर चुकें है की वे अपने रिकॉर्ड सुरक्षित रख लें कहीं ऐसा न हो कोइ ऐसी दुर्घटना हो जाये की रिकॉर्ड ही ख़त्म हो जाये। अरविन्द केजरीवाल के इस ट्वीट के बाद ऐसे ही फ़र्ज़ी डिग्री मामले में फसे दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र तोमर ने तो बकायदा आरटीआई दाखिल कर दी है और अब प्रधान मंत्री से इस्तीफे की मांग कर रहे है।

जितेन्द्र तोमर का कहना है उन पर भी ऐसे ही आरोप लगे थे और उन्होंने इस्तीफा दिया था। प्रधान मंत्री को भी उसी तरह कॉलेज ले जाकर पूछना चाहिए की उनकी क्लास कौन सी थी,बाथरूम कहाँ था।

जितेन्द्र तोमर ने समाचार पत्रों की खबरों में आये गुजरात यूनिवर्सिटी के उस जबाब को आधार बनाया है जिसमें उन्होंने MA की डिग्री तो सही बताई है पर प्रधान मंत्री ने बीए कहाँ से की इस बात की जानकारी यूनिवर्सिटी को नहीं है। जितेन्द्र तोमर कहते है की भला ऐसा कैसे हो सकता है की यूनिवर्सिटी को यह जानकारी न हो, जब उनकी BA की डिग्री ही फर्ज़ी है, तो वह किसी यूनिवर्सिटी से MA कैसे कर सकते हैं ?

दिल्ली यूनिवर्सिटी ने केंद्रीय सूचना आयोग के आदेश के बावजूद आम आदमी पार्टी के नेताओं को प्रधान मंत्री की डिग्री दिखाने से इंकार कर दिया था। इन सभी बातों की वजह से मोदी जी शक के घेरे में आ खड़े हुए है।

अब सवाल ये उठता है कि अगर देश के प्रधान मंत्री ही फ़र्ज़ी डिग्री लिए घूम रहे हैं तो वो देश की भागदौड़ कैसे संभालेंगे और किस मुँह से वो लोगों को ऐसा करने से रोकेंगे। जनता का मानना है कि अगर मोदी जी के पास डिग्री है तो दिखाने में संकोच कैसा वहीं आप का भी कहना है की यदि डीयू की डिग्री है तो उसे तुरंत दिखाने में दिक्कत क्या है ? आप इस मुद्दे से एक तीर से कई शिकार करना चाहती है।

Comments are closed.