जम्मू कश्मीर में राहत कार्यों में राजनीतिः सोनिया

बांदीपुरा। भाजपा पर जम्मू कश्मीर के बाढ़ पीड़ितों को राहत मुहैया कराने को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कहा कि केन्द्र की सत्तारुढ़ पार्टी ने बड़े बड़े वादे किये लेकिन उन्हें पूरा करने के लिए कदम नहीं उठाए। आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेसी उम्मीदवार उस्मान माजिद के लिए प्रचार करने यहां आईं सोनिया ने कहा कि चुनाव ऐसे समय हो रहे हैं जब कश्मीर की जनता बाढ़ से हुई बर्बादी से अभी तक उबरी नहीं है।

सोनिया ने बाढ़ प्रभावित लोगों को मदद देने में सामाजिक कार्यकर्ताओं की भूमिका की सराहना की और कहा, ‘‘उन्होंने हरसंभव प्रयास किया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस का कश्मीर की जनता से गहरा ताल्लुक है। मेरे परिवार की जड़ें मुझे यहां बार बार लाती हैं।’’ केन्द्र की संप्रग सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर के लिए उठाए गए कदमों पर प्रकाश डालते हुए सोनिया ने कहा कि वूलर सौंदर्यीकरण परियोजना को 2011 में मंजूरी दी गई और दो क्षेत्रीय परिषदों का वादा किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस ने राज्य की जनता के लिए बहुत काम किया। जम्मू कश्मीर के विकास के लिए कांग्रेस का नजरिया बहुत साफ है। ऐसे सपने मत दिखाओ जो जमीन पर संभव नहीं हैं।’’ लोगों से धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को बचाने के लिए कांग्रेस को वोट देने का आह्वान करते हुए सोनिया ने कहा कि कांग्रेस धर्मनिरपेक्षता तथा सांप्रदायिक ताकतों को दूर रखने में विश्वास रखती है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने गठबंधन सरकार बनाने का फैसला किया है।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने श्रीनगर से 45 किलोमीटर दूर यहां एक चुनावी जनसभा में कहा, ‘‘चुनाव ऐसे समय हो रहे हैं जब आपने प्राकृतिक आपदा (बाढ़) झेली है। राजनीति के बारे में बात करना अच्छा नहीं लगता लेकिन राहत एवं पुनर्वास कार्य बहुत धीमी रफ्तार से चल रहा है।’’ सोनिया ने कहा कि संप्रग सरकार ने 2005 में नियंत्रण रेखा खासकर बारामूला जिले के उड़ी सेक्टर में आए भूकंप के पीड़ितों को राहत मुहैया कराने के लिए पूरा प्रयास किया। उन्होंने कहा, ‘‘अब जब केन्द्र में भाजपा सरकार है तो क्या हो गया है? ऐसा लगता है कि उनकी रुचि नहीं है। भाजपा के नेता आए और उन्होंने बड़े बड़े वादे किये लेकिन कुछ नहीं दिया। यहां तक कि राज्य सरकार ने जो मांगा वह भी नहीं दिया गया।’’ राज्य सरकार ने राज्य में बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण तथा आधारभूत ढांचों के लिए 44 हजार करोड़ रूपये का विस्तृत पैकेज मांगा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 अक्तूबर को दिवाली पर राज्य के दौरे के समय राज्य को 745 करोड़ रूपये की सहायता की घोषणा की थी।

इससे पहले, लोगों को संबोधित करते हुए जेकेपीसीसी प्रमुख सैफुद्दीन सोज ने कहा कि विधानसभा चुनावों में भाजपा को वोट का मतलब आरएसएस को वोट होगा। प्रधानमंत्री का नाम लिये बगैर उन्होंने कहा, ‘‘यह व्यक्ति आरएसएस एजेंडे को आगे बढ़ाते हुए, किसी से सलाह मशविरा किये बगैर आंतरिक नीति और विदेश नीति चला रहे हैं।’’ राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने आरोप लगाया कि कांग्रेस को छोड़कर सभी राजनीतिक दलों का नई सरकार में हिस्सेदारी के लिए भाजपा के साथ गुप्त समझौता है। किसी राजनीतिक दल का नाम लिये बगैर, आजाद ने कहा, ‘‘हमें उन्हें हराना होगा।’’ कभी उग्रवाद से प्रभावित रहे इस क्षेत्र में आज उत्सव जैसा माहौल देखने को मिला क्योंकि पूरे जिले में सभी बड़े राजनीतिक दलों के झंडे लहरा रहे थे। बांदीपुरा और 14 अन्य क्षेत्रों में 25 नवंबर को विधानसभा चुनावों के पहले चरण का मतदान होना है।


Comments are closed.