चुनाव परिणाम भाजपा के लिए झटकाः वेंकैया

नई दिल्ली लोकसभा चुनाव के बार पहली बार किसी चुनाव में करारी हार का सामना करने वाली भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि दिल्ली का चुनाव परिणाम पार्टी के लिए झटका है लेकिन केंद्र सरकार के कामकाज पर जनमत संग्रह नहीं क्योंकि लोगों ने स्थानीय मुद्दों पर मतदान किया। वेंकैया ने कहा कि पार्टी हार के कारणों की पड़ताल करेगी और इन्हें सुधारेगी। चुनाव में जीत के लिए आप की सराहना करते हुए उन्होंने उम्मीद जतायी कि वह मतदाताओं की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे जो उन्होंने लोगों में जगायी है। वेंकैया ने कहा कि केंद्र सरकार नयी सरकार को पूरा समर्थन देगी। संसदीय मामलों के मंत्री ने एक कार्यक्रम से इतर कहा, ”हमारे समक्ष लगातार आठ चुनाव हुए। हमने सात स्थानों पर जीत दर्ज की और पहली बार दिल्ली में धक्का लगा।’’ उन्होंने कहा, ”मैं पहले दिन से ही कहता रहा हूं कि यह दिल्ली का चुनाव है और यह जनादेश नहीं है.. यह केंद्र सरकार पर जनमत संग्रह नहीं है क्योंकि मुद्दों पर ध्यान दिया गया, चर्चा की गई और तब स्थानीय मुद्दों पर फैसला किया। इसलिए यह केंद्र सरकार पर रायशुमारी नहीं थी।’’ वेंकैया ने कहा कि भाजपा जनादेश को स्वीकार करती है। उन्होंने कहा, ”मैं शानदार जीत के लिए आप की सराहना करना चाहता हूं और उम्मीद करता हूं कि वे लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। वह अपने किये सभी वादों को पूरा करेंगे।’’ उन्होंने दिल्ली के विकास की पहल में आप सरकार को केंद्र के सहयोग का भरोसा दिया। केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”हम विनम्रता से जनादेश को स्वीकार करते हैं और जनादेश का सम्मान करते हैं। हम दिल्ली के समग्र विकास के लिए नयी सरकार का और अर्थपूर्ण ढंग से सहयोग करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ”हर चुनाव का एक संदेश होता है। पार्टी को संदेश का अध्ययन करना होगा और यह समझना होगा कि हम किन कारणों से पीछे रह गए। हमें भविष्य में इन्हें दूर करना होगा।’’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा, ”सौभाग्य से हमें ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो सभी जगह लोकप्रिय है। उनके पास एक दृष्टि और क्षमता है और देश को आगे ले जाने की ताकत है।’’ उन्होंने कहा, ”चाहे कोई भी पार्टी राज्य में शासन करे, प्रधानमंत्री पहले ही कह चुके हैं कि हम टीम इंडिया के रूप में काम करेंगे और दिल्ली में नयी सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे।


Comments are closed.