Monday, April 15, 2024
Homeअन्यउम्मीदों पर खरा नहीं उतरने पर बेदी ने मांगी माफी

उम्मीदों पर खरा नहीं उतरने पर बेदी ने मांगी माफी

नई दिल्ली। दिल्ली चुनाव में पार्टी की स्तब्धकारी पराजय पर भाजपा की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी ने पार्टी की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाने के लिए आज माफी मांगी। पार्टी के अधिकतर उम्मीदवारों के साथ वह खुद भी कृष्णा नगर सीट से हार गई हैं। बेदी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुझे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत शीर्ष नेताओं एवं सामान्य कार्यकर्ताओं का सम्मान और भरोसा मिला। लेकिन मैं क्षमा मांगती हूं क्योंकि मैं उनके विश्वास और भरोसे पर खरी नहीं उतर सकी।’’ उन्होंने कहा कि वह एक पुलिस अधिकारी एवं अन्य रूपों में अपने जीवन में पहली बार ऐसी स्थिति महसूस कर रही हैं और उन्हें पहले कभी ऐसी स्थिति का सामना नहीं करना पड़ा। चुनाव परिणाम को मोदी सरकार पर रायशुमारी मानने से इंकार करते हुए किरण बेदी ने यहां कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं थे।’’ बेदी ने माइक्रो ब्लागिंग साइट ट्विटर के जरिए भी माफी मांगी। उन्होंने ट्वीट किया, ”मुझमें विश्वास व्यक्त करने के लिए पार्टी नेतृत्व को धन्यवाद देती हूं और हर कार्यकर्ता से उनकी उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाने के लिए क्षमा मांगती हूं।’’

पूर्व आईपीएस अधिकारी ने कहा कि भाजपा आत्मचिंतन करेगी और हम हार के कारणों का विश्लेषण करेंगे। एक अन्य ट्वीट में बेदी ने लिखा, ”मैं केवल तब हारती हूं जब मैं किसी कार्य में शत प्रतिशत नहीं देती हूं। मैंने पूरा प्रयास किया। मेरी पार्टी और हम हार के कारणों का पता लगयेंगे। दिल्ली को शुभकामनाएं।’’ किरण बेदी ने आप की शानदार जीत के लिए अरविंद केजरीवाल को बधाई दी और उम्मीद जतायी कि वह दिल्लीवासियों से किये गए वादों को पूरा करेंगे। बेदी ने ट्वीट किया, ‘‘मैं उम्मीद करती हूं कि अरविंद और उनकी पार्टी अब दिल्ली को ऊंचाइयों तक ले जायेगें और वादे पूरे करेंगे.. इसे एक विश्वस्तरीय शहर बनायेगें तथा जल्द से जल्द गरीबों को सभी सुविधाएं प्रदान करेगें।’’ उन्होंने कहा कि जब हमने लोगों से लोकपाल का आह्वान किया था, केजरीवाल उनमें से थे जो बिना किसी मांग के आए। अब प्रत्येक 24 घंटे को 2400 घंटे में बदलकर काम करने की जरूरत है। बेदी ने आप के संयोजक को उनके धरना देने के आचरण के प्रति भी चेताया। उन्होंने कहा कि अब कोई भी टकराव भरा रूख काम नहीं करेगा, मिलकर काम करने की सख्त जरूरत है। धरना अब काम नहीं आएगा। कृष्णानगर से पराजित होने के बाद भी उन्होंने क्षेत्र के लोगों एवं पार्टी कार्यकर्ताओं के प्रति आभार व्यक्त किया।


RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments