ब्रिटेन में कोरोना वायरस के बाद स्ट्रेन का आतंक, ब्रिटेन समेत पूरी दुनिया में एकबार फिर हाहाकार.!!!

संतोष सिंह, अपनी पत्रिका संवाददाता

कोरोना का आतंक अभी थमा भी न था कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के एक नए रूप स्ट्रेन वायरस का आतंक फैल गया। स्ट्रेन वायरस के फैलते ही ब्रिटेन समेत पूरी दुनियां में एकबार फिर हाहाकार मच गया है।  गौरतलब है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन VUI-202012/01 मिला है, जिसे बेहद संक्रामक बताया जा रहा है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने 20 दिसम्बर  को चेतावनी जारी करते हुए कहा कि क्रिसमस के दौरान शॉपिंग और भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें, क्योंकि कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन काफी तेजी से फैल रहा है। विश्लेषकों का कहना है कि स्ट्रेन वायरस को लेकर जब तक सारी चीजें स्पष्ट नहीं हो जातीं, तब तक सावधानी बरतना ही सही है।

70 फीसदी ज्यादा खतरनाक है नया रूप        

वायरस का यह नया स्वरूप 70 प्रतिशत ज्यादा संक्रामक बताया जा रहा है, यद्यपि स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे कोई साक्ष्य नहीं हैं कि यह ज्यादा जानलेवा है या टीके को लेकर यह अलग तरह की प्रतिक्रिया देगा। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक का कहना है कि स्थिति ‘बेहद गंभीर’ है और सरकार एक ‘बेकाबू’ वायरस के नए स्वरूप को रोकने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि यह एक जानलेवा बीमारी है, हमें इसे नियंत्रण में रखने की जरूरत है और इस नए स्वरूप ने इस काम को और मुश्किल बना दिया है।

ब्रिटेन में रेल सेवा बाधित

कोरोना के नए स्ट्रेन के खतरे को ध्यान में रखते हुए ब्रिटेन ने अपनी रेल सेवाओं की आवाजाही पर भी रोक लगा दी है। इधर, ऑस्ट्रिया और इटली ने कहा है कि वह ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक लगाएंगे। इटली के विदेश मंत्री लुइगी डी मायो ने ट्विटर पर कहा कि सरकार कोरोना वायरस के नए प्रकार से इटली के निवासियों को बचाने के लिए आवश्यक कदम उठा रही है। वहीं, चेक गणराज्य ने ब्रिटेन से आने वाले लोगों के लिए पृथक-वास के नियम को लागू कर दिया है।

सऊदी अरब ने बंद किये अपने समुद्री बंदरगाह

सऊदी अरब के गृह मंत्री ने कहा है कि जब तक कोरोना वायरस के नए रूप को लेकर पूरी जानकारी नहीं आ जाती, तब तक फ्लाइट बैन को आगे बढ़ाया जा सकता है। सऊदी अरब के समुद्री बंदरगाह भी एक हफ्ते के लिए बंद रहेंगे। सरकार ने आदेश दिए हैं कि पिछले तीन महीने में अगर कोई यूरोपीय देश का दौरा करके आया है, तो वह तुरंत कोविड टेस्ट कराए।

ये भी पढ़ेंहुनर हाट में रामपुर के कलाकारों ने दिखाया हुनर

थाईलैंड के सखोन में लॉकडाउन

कई देशों में कोरोना संक्रमण के मामले अचानक से बढ़ रहे हैं और वे दोबारा लॉकडाउन लगाने पर मजबूर हो रहे हैं। थाईलैंड में भी कोरोना वायरस का संक्रमण अचानक से बढ़ गया है। इनमें से ज्यादातर संक्रमण के मामले थाईलैंड के सबसे बड़े सीफूड मार्केट से जुड़े हुए हैं। नए मामले आने के बाद थाईलैंड ने राजधानी बैंकॉक के पास तटीय प्रांत समुत सखोन में लॉकडाउन लगा दिया है। इसी प्रांत में सीफूड मार्केट है और यहीं से कोरोना के सैंकड़ों मामले सामने आए हैं। थाईलैंड चीन के बाहर का पहला देश था जहां कोरोना वायरस के केस मिले थे। लेकिन यहां अब तक स्थिति नियंत्रण में थी।

भारत ने ब्रिटेन की फ्लाइट्स पर लगाई रोक

इसी क्रम में भारत ने ब्रिटेन से आने वाली सभी फ्लाइट्स पर 31 दिसंबर तक रोक लगा दी हैं। कोरोना का ब्रिटेन में नया और खतरनाक स्ट्रेन आने के बाद भारत की तरफ से यह कदम उठाया गया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से यह कहा गया कि ब्रिटेन में पैदा हुए मौजूदा हालात को देखते हुए भारत ने ब्रिटेन से आने वाली सभी फ्लाइट्स को 31 दिसंबर 2020 की रात 11 बजकर 59 मिनट तक रोक लगाने का फैसला किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा है कि, “जब तक कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर सटीक जानकारी नहीं आती, तब तक ये रोक लगाई जानी चाहिए। इतना ही नहीं, ब्रिटेन से आ रहे सभी यात्रियों को अनिवार्य रूप से कोरेनटाइन क्वरंटाइन किया जाना चाहिए। ”

सरकार सतर्क, घबराने की जरुरत नहीं : हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार (स्ट्रेन) के संक्रमण को लेकर चिंताओं के बीच कहा कि सरकार सतर्क है और घबराने की आवश्यकता नहीं है। हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार ने पिछले एक साल में हर वह काम किया है, जो कोविड-19 से निपटने के लिए महत्वपूर्ण था। हर्षवर्धन ने कहा, ‘‘सरकार हर चीज के बारे में पूरी तरह जागरुक है, आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

सीएम केजरीवाल ने भी किया था आगाह

इससे पहले, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मसले पर ट्वीट करते हुए लिखा था कि यूके में कोरोना के नए स्ट्रेन से हलचल है और वो सुपर स्प्रेडर की तरह काम कर रहा है। ऐसे में भारत सरकार को यूके की सभी फ्लाइट बैन करनी चाहिए।

गहलोत ने की थी मांग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ट्वीट कर कहा था कि यूनाइटेड किंगडम में कोरोना की नई स्ट्रेन की खबर चिंताजनक है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘यूनाइटेड किंगडम में कोरोना की नई स्ट्रेन की खबर चिंताजनक है। भारत सरकार को इस मामले में तुरंत एक्शन लेना चाहिए और ब्रिटेन, अन्य यूरोपीय देशों से आने वाली फ्लाइट तुरंत बैन करनी चाहिए।

अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द

भारत के अलावा फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड्स, ऑस्ट्रिया, आयरलैंड और बुल्गेरिया ने 20 दिसम्बर को  ब्रिटेन  की सभी फ्लाइट्स पर बैन लगा दिया है। 21 दिसम्बर को  कनाडा ने भी यूके के लिए सभी कॉमर्शियल और प्राइवेट फ्लाइट्स पर रोक लगा दी है। सऊदी अरब ने भी कोरोना के नए संक्रामक स्ट्रेन के डर से एक हफ्ते के लिए सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी है।  

निवेशकों में चिंता

ब्रिटेन के अलावा एशिया के कई देशों में कोरोना वायरस के नए उभार ने निवेशकों में चिंता पैदा की है। इसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सेंटिमेंट कमजोर हुआ है। दोपहर 12 बजे के बाद तो गिरावट का सिलसिला ऐसा शुरू हुआ कि सेंसेक्स 2037 अंक तक लुढ़क गया। नेगेटिव अंतरराष्ट्रीय संकेतों की वजह से हफ्ते के पहले कारोबारी दिन आज शेयर बाजार की शुरुआत लाल निशान में हुई है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 28 अंक की गिरावट के साथ 46,932 पर खुला। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सेंज का निफ्टी 19 अंक की गिरावट के साथ 13,741 पर खुला।

देश और दुनिया की तमाम ख़बरों के लिए हमारा यूट्यूब चैनल अपनी पत्रिका टीवी (APTV Bharat) सब्सक्राइब करे।

आप हमें Twitter , Facebook पर भी फॉलो कर सकते है।

Comments are closed.